Loading...

चेक भरने के लिए करना चाहिए एक ही इंक का इस्तेमाल, नहीं तो रद्द हो सकता है चेक

0 19

अगर आप भी कोई चेक या अन्य पेमेंट इंस्ट्रूमेंट अपने हाथों से भर रहे हैं, तो आपको बता दें कि एक बात जानना आपके लिए बेहद आवश्यक है। जी हां, दरअसल यह बहुत जरूरी हे कि आप वह पूरा इंस्ट्रूमेंट एक ही इंक से भरें।

मालूम हो कि नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट्स एक्ट, 1881 के सेक्शन 87 के मुताबिक एक नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट में भौतिक हेरफेर करने से वह रद्द हो जाता है। बता दें कि ऐसे किसी चेक या इंस्ट्रूमेंट को सिर्फ एक ही कीमत पर स्वीकार किया जा सकता है, अगर इसे प्राप्त करने वाली पार्टी इसमें हुए बदलावों को मान्यता दे देती है।

एक मामले के तहत दिया फैसला

आपको बता दें कि बीती 21 जून 2019 को मल्लिका बनाम कासी पिल्लई मामले में मद्रास हाईकोर्ट ने फैसला सुनाया था कि कोई भी नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट जो दो अलग इंक में लिखा गया हो, वह भी नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट्स एक्ट, 1881 के तहत अमान्य होगा।

Loading...

मालूम हो कि इस मामले में अभियोगी पक्ष ने 35,000 रुपए के वचन-पत्र के आधार पर ब्याज सहित पैसा वापस पाने की याचिका दाखिल की थी। हालांकि, कोर्ट ने देखा कि इस नोट पर अंक ‘3’ नीली स्याही से लिखा गया था और ‘5000’ हरी स्याही से।

यहां आपको बता दें कि अभियोगी पक्ष यह नहीं बता पाया कि उसने दो अलग रंगों की स्याही क्यों इस्तेमाल की थी। यही वजह रही कि कोर्ट ने इसे ‘भौतिक फेरबदल’ मानते हुए इस वचन- पत्र को एक्ट के तहत निरस्त कर दिया।

इन बातों पर रखें खासा ध्यान

अगर आप कोई चेक जारी कर रहे हैं, तो उसे ‘क्रॉस’ जरूर करें। चेक को क्रॉस करने के लिए आप चेक के ऊपर हिस्से में बाईं तरफ दो लकीरें खींच सकते हैं।

बता दें कि आप प्राप्तकर्ता का नाम लिखने वाली लाइन के अंत में ‘bearer’ पर भी ‘क्रॉस’ लगा सकते हैं। इन दो तरीकों से यह सुनिश्चित होगा कि जिसके नाम पर चेक जारी किया गया है सिर्फ उसे ही पैसा मिलेगा।

मालूम हो कि इन दो तरीकों को अपनाए बिना चेक को कोई भी इनकैश करा सकता है। इसके अलावा चेक पर लिखी हुई तारीख का भी ध्यान रखें। दरअसल आपको बता दें कि जारी किए जाने की तारीख से सिर्फ 3 महीने बाद तक ही चेक वैलिड रहता है।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.