Loading...

बाढ़मेर में है एक ऐसा मंदिर जहां पर सूर्यास्त के बाद कोई ठहरा तो बन जाता है पत्थर

0 226

राजस्थान अपने ऐतिहासिक किलो और मंदिरों के कारण पूरे भारतवर्ष में प्रसिद्ध है. इन किलो और मंदिरों में ऐसे कई किले है जिन्हें भूतिया माना जाता है, जहां पर जाना मौत को दावत देने के बराबर होता है. राजस्थान के अलवर जिले में स्थित भानगढ़ का किला भूतिया माना जाता है. इसी तरह राजस्थान का एक मंदिर जहां रात को जो भी रुकता है वो आज तक जिंदा नहीं रहा. यह मंदिर बाड़मेर जिले में स्थित किराडू मंदिर है. इस के रहस्य को आज तक कोई सुलझा नहीं पाया है. सूर्यास्त के बाद यहां आज तक जो भी रुका है वो पत्थर बन गया. इसके पीछे एक साधु की शाप की पौराणिक मान्यता है.

भगवान शिव के इस किराडू मंदिर को लघु खुजराओ भी कहते हैं. इस मंदिर में 11 वीं शताब्दी के शिलालेख मिले थे. इस मंदिर की मूर्तियों की स्थापत्य कला अद्भुत है. शापित होने के कारण इस मंदिर में ज्यादा चहल-पहल ना होकर सन्नाटा ही रहता है. स्थानीय लोग यहां पर रात को किसी को रुकने भी नहीं देते हैं.

इस कारण है शापित

Loading...

दरअसल कई सदियों पहले यहां पर एक साधु आए थे. गांव वालों ने साधु की आवभगत की और खूब मान सम्मान किया. 1 दिन साधु किसी अन्य स्थान पर जा रहे थे तो उन्होंने शिष्यों को गांव वालों के भरोसे छोड़ दिया. गुरु जी के जाने के बाद शिष्य की तबीयत खराब हो गई, लेकिन गांव वालों ने उनकी कोई मदद नहीं की. जब साधु वापस आए तो उनके शिष्य कई बीमारियों से जूझ रहे थे. अपने शिष्यों की यह हालत देखकर साधु को गुस्सा आया और उन्होंने गांव को शाप दे दिया कि जिन लोगों के ह्दय मेपत्थर के समान है उन्हें इंसान बनकर रहने का कोई अधिकार नहीं है. इसलिए सब उसी वक्त पत्थर के हो गए थे.

हालांकि इस गांव की एक महिला ने शिष्यों की आवभगत की थी, तो साधु ने उस पर दया दिखा कर कहा कि तुम इस गांव से चली जाओ वरना तुम भी पत्थर बन जाओगी. साधु ने महिला को यह हिदायत दी थी कि तुम गांव से जाते समय पीछे मुड़कर मत देखना. लेकिन उस महिला को साधु की बात पर शक हुआ और उसने एक बार पीछे मुड़ कर देख लिया जिस कारण वो भी पत्थर में तब्दील हो गई.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.