Loading...

आप अपने मोबाइल से घर बैठे ही बना सकते हैं ई-आधार, नहीं देना पड़ता कोई भी चार्ज

0 19

ये तो हम सब जानते हैं कि भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण यानी कि UIDAI की तरफ से जारी किया गया आधार कई तरह से काम आता है। दरअसल 12 अंकों के आधार नंबर में किसी भी व्यक्ति की विशिष्ट पहचान जुड़ी होती है।

आपको बता दें कि आप आधार नंबर को कार्ड के रूप में या फिर ऑनलाइन वर्चुअल आईडी यानी कि ई-आधार के रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं। बता दें कि अगर आपने अभी तक ई-आधार नहीं बनाया है तो हम आपको ई-आधार बनाने का तरीका और इसके फायदे के बारे में बता रहे हैं जोकि बेहद आसान है। चलिए जानते हैं इसके बारे में..

इस तरह तैयार करें ई-आधार

आपको बता दें कि ई-आधार को जनरेट करने के लिए सर्वप्रथम आपको UIDAI की वेबसाइट जिसका लिंक ये है https://uidai.gov.in उस पर जाना होगा।

Loading...

मालूम हो कि यहां डाउनलोड आधार के विकल्प या फिर ये https://eaadhaar.uidai.gov.in/ लिंक पर क्लिक करें।

आपको बता दें इसके बाद आधार नंबर पर क्लिक करके अपना आधार नंबर भरें। और कैप्चा भरकर सेंड OTP पर क्लिक करें।

बता दें कि रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर OTP आ जाएगा।

मालूम हो कि OTP को वेबसाइट के पेज पर डालें और डाउनलोड आधार पर क्लिक करें।

दरअसल वर्चुअल आधार का पीडीएफ डाउनलोड करने के लिए 8 डिजिट का पासवर्ड डालें जो CAPITALS में आपके नाम के शुरूआती 4 अक्षर और जन्मतिथि होता है।

उदाहरण के लिए जैसे आपका नाम rakesh sharma है और आपकी जन्मतिथि 1 जनवरी 1990 है तो आपको पासवर्ड RAKE1990 होगा।

ई-आधार के ये हैं प्रमुख फायदे

दरअसल फिजिकल आधार के मुकाबले ई-आधार को ज्यादा सुरक्षित माना गया है।

बता दें कि वर्चुअल आधार के नंबर को आप आसानी से छिपाया जा सकता है और डेटा महफूज रहता है।

मालूम हो कि ई-आधार के गलत इस्तेमाल की संभवना भी काफी कम होती हैं।

दरअसल ई-आधार भी आधार कार्ड की तरह ही वैध है और यह सभी जगह मान्य है।

आपको बता दें कि यूआईडीएआई ने ई-आधार के लिए क्यूआर कोड भी जारी किया हुआ है।

दरअसल क्यूआर कोड में फोटो सहित आधार की सभी जानकारियां जुड़ी होती हैं।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.