Loading...

एसबीआई ग्राहक अब आसानी के साथ ऐसे बदल सकते हैं अपने बैंक खाते का पता

0 11

जब भी लोग अपना घर बदलते हैं तो एक काम सबसे ज्यादा जरूरी होता है और वो है अपने डॉक्युमेंट में उचित बदलाव करना. दरअसल अगर आप ऐसा नहीं करते तो भविष्य में आपको परेशानी का सामना करना पड़ सकता है और कई फायदों से हाथ भी धोना पड़ सकता है.

दरअसल ऐसा इसलिए क्योंकि सभी डॉक्युमेंट आपके पुराने रजिस्टर्ड पते पर पहुंचेंगे. यही कारण है कि एक्सपर्ट्स हमेशा यही सलाह देते हैं कि पते में किसी भी बदलाव की सूचना बैंक और जहां भी आपने अपना पैसा लगाया है वहां तक पहुंचना चाहिए.

हालांकि जहां तक बैंक की बात है तो यहां आपके पास 2 ऑप्शन होते हैं. पहला ये की या तो पुरानी ब्रांच में ही खाता रखें और वहां अपना एड्रेस चेंज कर लें. वहीं दूसरा ऑप्शन यह है कि आप नई शाखा में अकाउंट शिफ्ट कर लें जो आपके घर के पास हो. अब ऐसे में अगर देश के सबसे बड़े बैंक एसबीआई में यदि आपका खाता है तो आप अब आसानी से पते से संबंधित बदलाव कर सकते हैं. इसको लेकर बैंक ने पूरी जानकारी दी है. चलिए जानते हैं इज़के बारे में..

दरअसल एसबीआई ने अपने ट्विटर हैंडल के जरिए एक ट्वीट कर के बताया है कि अगर आप अपना अकाउंट पुराने ब्रांच के साथ ही रखना चाहते हैं तो एड्रेस चेंज का एक फॉर्म भरकर जमा करा दें. वहीं अगर ब्रांच बदलना हैं तो अकाउंट ट्रांसफर का फॉर्म भरकर जमा कराएं.

Loading...

बैंक खाते में घर का पता बदलने के लिए करें ये

आपको बता दें कि घर का पता चेंज करने के लिए आपको केवाईसी यानी कि नो योर कस्मटर से जुड़े डॉक्युमेंट देने होंगे. दरअसल बैंक की वेबसाइट पर दी गई जानकारी के अनुसार एड्रैस बदलवाने के लिए पासपोर्ट, वोटर आईडी, ड्राइविंग लाइसेंस, आधार कार्ड, नरेगा कार्ड दे सकते हैं.

वहीं एसबीआई ने ट्वीट के जरिए यह भी बताया है कि अगर आप अपना अकाउंट पुराने ब्रांच के साथ ही रखना चाहते हैं तो एड्रेस चेंज का एक फॉर्म भरकर जमा करा दें.

यानी कि इसका मतलब साफ है कि किसी भी डॉक्युमेंट पर अपना एड्रेस चेंज कराएं इसके बाद बैंक में जमा कर दें. हालांकि इसमें सबसे ज्यादा ध्यान देने वाली बात जॉइंट अकाउंट को लेकर है. जी हां, दरअसल इस मामले में सभी खाताधारकों को एड्रेस चेंज के आवेदन में साइन करने की जरूरत है. बता दें कि अगर ग्राहक ने सिर्फ एड्रेस चेंज कराया है तो कोई भी नया कम्युनिकेशन नए एड्रेस पर किया जाता है. मालूम हो कि SBI ने एड्रेस चेंज करने की जानकारी अपनी वेबसाइट पर जारी की है. आप वहां स्वयं जाकर भी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं.

वहीं दूसरी तरफ अगर अपने अपना अकाउंट ट्रांसफर कराया है तो इस मामले में नए एड्रेस पर एक चेक बुक और नया एटीएम या डेबिट कार्ड ग्राहक को भेज जाता है.

जानिए अकाउंट ट्रांसफर करने पर क्या होगा

बता दें कि यदि आप अकाउंट ट्रांसफर करा रहे हैं तो बैंक आपसे चेक बुक, एटीएम या डेबिट कार्ड रिटर्न करने के लिए बोल सकता है. अगर ग्राहक ने पुराने ब्रांच में केवाईसी संबंधी औपचारिकता पूरी नहीं की है तो नए ब्रांच में वह करना पड़ेगा.

मालूम हो कि एक बार जब ग्राहक सारे दस्तावेज के साथ आवेदन बैंक में जमा कर देता है तो बैंक उसे वेरिफाई करता है. बता दें कि इसके बाद उचित औपचारिकता की शुरुआत हो जाती है.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.