Loading...

क्रिकेट इतिहास का वो इतिहासिक दिन, जब एक ही पारी में पिता और बेटे ने ठोक डाले थे शतक

0 12

क्रिकेट के मैदान पर आए दिन नए रिकॉर्ड बनते है और पुराने रिकॉर्ड टूट जाते हैं. लेकिन कुछ रिकॉर्ड ऐसे भी हैं, जो अभी तक कायम है. मैदान पर कुछ ऐसे किस्से घटित हुए हैं, जिनको शायद कभी नहीं भुलाया जा सकता. आज 24 जुलाई का दिन भी उन तारीखों में से एक है. आज से लगभग 88 साल पहले इसी तारीख को क्रिकेट के मैदान पर कुछ ऐसा हुआ था, जिससे सब हैरान रह गए थे.

वो यादगार मैच

1931 में 24 जुलाई को इंग्लैंड में नॉटिंघमशायर और वारविकशायर के बीच एक फर्स्ट क्लास मैच खेला गया था. इस मैच में को क्रिकेट इतिहास के यादगार पलों में से एक माना जाता है. इस मैच में इंग्लैंड के स्टार क्रिकेटर ज्यॉर्ज गन नॉटिंघमशायर की ओर से खेले थे. उस समय उनकी उम्र 52 साल की थी और उनके फैंस भारी मात्रा में स्टेडियम में मैच देखने पहुंचे थे. सबसे खास बात तो यह थी कि इस टीम में उनके बेटे ज्यॉर्ज वर्नोन गन खेले थे.

और फिर आया वो ऐतिहासिक पल

Loading...

इस मैच में बाप और बेटे का एक साथ ही टीम की ओर से खेलना दिलचस्प संयोग था. लेकिन इस मैच में कुछ ऐसा हुआ जिससे यह मैच और भी यादगार बन गया. बता दें कि जब ज्यॉर्ज गन शानदार बल्लेबाजी कर रहे थे, तभी कुछ समय बाद उनका बेटा मैदान पर बल्लेबाजी करने उतरा. पिता और बेटे को एक साथ बल्लेबाजी करते देखना फैं सके लिए शानदार अनुभव रहा होगा. लेकिन सबसे खास बात तो यह रही कि इस मैच में दोनों ने शतकीय पारी खेली थी. ज्यॉर्ज गन ने 183 रन बनाए तो उनके बेटे ने नाबाद 100 रन की पारी खेली थी.

साधारण खिलाड़ी नहीं थे ज्यॉर्ज गन, यह है आंकड़े

ज्यॉर्ज गन ने इंग्लैंड के लिए 1907 से 1930 के बीच 15 टेस्ट मैच खेले, जिसमें उन्होंने 1120 रन बनाए. इसके अलावा उन्होंने 643 फर्स्ट क्लास मैचों में 35208 रन बनाए. इस दौरान उन्होंने 62 शतक और 194 अर्धशतक भी लगाए. प्रथम श्रेणी मैच में उनकी सर्वश्रेष्ठ पारी 220 रन की थी. उन्होंने फर्स्ट श्रेणी क्रिकेट में 66 विकेट भी हासिल किए थे.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.