Loading...

TikTok ने बैन किए 60 लाख वीडियोज, हो जाइए सतर्क वरना कहीं आपके संग न हो जाए ऐसा कुछ

0 8

चीन की मशहूर वीडियो ऐप TikTok ने अपने प्लेटफॉर्म से 60 लाख वीडियोज को डिलीट कर दिया है. जी हां, दरअसल कंपनी ऑफिशियल ने बताया कि ये वीडियोज़ भारत की गाइडलाइंस का उल्‍लंघन कर रहे थे. कंपनी ने बताया कि वीडियो बैन करने का मकसद TikTok प्‍लेटफॉर्म से गैरकानूनी और अश्‍लील कंटेंट को हटाना था.

मालूम हो कि केंद्र की मोदी सरकार ने भी TikTok को नोटिस भेजा है. दरअसल इस नोटिस में 21 सवाल पूछे हैं और कहा है कि इसका संतोषजनक जवाब दिया गया तो कंपनी इस बैन के लिए तैयार रहे. बता दें कि इनमें बच्‍चों के ऐप के अवैध इस्‍तेमाल और अश्‍लील और कथित रूप से एंटी-नेशनल कंटेंट से जुड़ी बातें शामिल हैं.

यही नहीं, सरकार ने इसके साथ ही नोटिस भेजकर सुनिश्चित करने को कहा कि उनके प्लेटफॉर्म का प्रयोग किसी भी तरह की देश-विरोधी गतिविधि के लिए नहीं हो रहा है और लोगों का डेटा अभी और भविष्य में किसी सरकार को ट्रांसफर नहीं किया जाएगा.

आपको बता दें कि TikTok की पैरेंट कंपनी Beijing Bytedance Technology Co. ने बताया कि भारत में ऐप के 20 करोड़ से ज्‍यादा यूज़र्स हैं. मालूम हो कि TikTok इंडिया के डायरेक्‍टर सचिन शर्मा के मुताबिक कंपनी अपनी कम्‍युनिटी गाइडलाइंस का उल्‍लंघन करते कंटेंट का किसी तरह समर्थन या प्रमोशन नहीं करती.

Loading...

दरअसल सचिन शर्मा का कहना है कि 10 भाषाओं को सपोर्ट करने वाली TikTok गैरकानूनी वीडियो को ऐप पर रिलीज़ होने से पहने ही ब्लॉक कर देती है. इसी संबंध में कंपनी ने जुलाई 2018 से अब तक 60 लाख ऐसे विडियोज को हटाया है जो कम्यूनिटी गाइडलाइन्स का पालन नहीं कर रहे थे.

आखिर किस तरह काम करती है टिकटॉक

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि टिकटॉक दरअसल एक सोशल मीडिया ऐप है. बता दें कि इसके जरिए स्मार्टफोन यूजर छोटे-छोटे वीडियो बनाते हैं और शेयर करते हैं. इसकी खास बात यह है कि इस पर यूजर अपनी आवाज में वीडियो नहीं डाल सकता. मालूम हो कि उसे बस अपने होंठ चलाने होते हैं यानि ‘लिपसिंक’ करना होता है. बता दें कि इसपर किसी वीडियो अवधि की लिमिट 15 सेकेंड की होती है.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.