Loading...

काले धन को लेकर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने दिया बड़ा बयान, बताई ये महत्वपूर्ण बातें

0 13

मोदी सरकार को 5 साल हो गए हैं और दूसरा कार्यकाल भी 50 दिन को पार कर गया है लेकिन अभी भी बैंकों में भारतीयों ने कितना कालाधन जमा कर रखा है इसका अंदाज़ा सरकार को नहीं लग पाया है. जी हां, दरअसल केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने स्वयं सोमवार को इस बारे में कहा कि इसका सरकार के पास कोई प्रामाणिक अनुमानित आंकड़ा नहीं है.

आपको बता दें कि लोकसभा में एक सवाल के जवाब में वित्त मंत्री ने कहा कि हाल में मीडिया में कुछ खबरें आई हैं, जिनमें कहा गया है कि साल 2018 में भारतीयों के स्विस बैंकों में जमा धन में लगभग 6% की गिरावट आई है.

काले धन का पता लगाने के साथ उसपर टैक्स लगाने का उपाय कर रही है सरकार

मालूम हो कि सीतारामण ने अपने जवाब में कहा कि सरकार स्विट्जरलैंड में भारतीयों के काले धन का पता लगाने और उसपर टैक्स लगाने के लिए हर संभव उपाय करने का प्रयास कर रही है. इन प्रयासों में डबल टैक्सेशन अवॉइडेंस अग्रीमेंट यानी कि डीटीएए तथा ऑटोमेटिक एक्सचेंज ऑफ फाइनैंशल अकाउंट इन्फॉर्मेशन शामिल हैं.

Loading...

दरअसल आपको बता दें इनके तहत भारत को सितंबर 2019 से स्वतः आधार पर स्विट्जरलैंड में भारतीयों द्वारा 2018 और उसके बाद जमा कराए गए पैसों का हिसाब-किताब मिलने जा रहा है.

जी20 में भी हुई कालेधन के ऊपर बात

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि वित्त मंत्री के अनुसार भारत ने भ्रष्टाचार से मुकाबले के लिए कई अंतरराष्ट्रीय मंचों जैसे जी20 और ब्रिक्स पर विभिन्न देशों से बातचीत की है. उन्होंने यह भी कहा कि जी20 शिखर सम्मेलन से इतर ब्रिक्स नेताओं की एक अनौपचारिक बैठक के बाद एक संयुक्त बयान जारी किया गया है।

दरअसल इस बयान में ब्रिक्स नेताओं ने अंतरराष्ट्रीय भ्रष्टाचार रोधी सहयोग और कानूनी रूपरेखा को मजबूत करने पर सहमति जताई है.

इसके अलावा देश की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने यह भी उल्लेख किया कि सरकार ने सख्त कानून लागू कर देश के अंदर और बाहर काले धन पर प्रहार के लिए कई ठोस कदम उठा रही है.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.