Loading...

सुभाष चंद्र बोस के साथ मिलकर दादा ने देश के लिए लड़ी जंग, अब पोता टीम इंडिया में मचाएगा धमाल

0 6

भारतीय चयनकर्ताओं ने तेज गेंदबाज नवदीप सैनी को वेस्टइंडीज दौरे पर भेजने का का फैसला लिया है। उनको भारतीय वनडे और T-20 टीम में जगह मिली है। आईपीएल 2019 में उन्होंने रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु की तरफ से खेलते हुए काफी शानदार प्रदर्शन किया। इस पोस्ट में हम आपको नवदीप सैनी के जीवन से जुड़ी अनसुनी बातें बताने जा रहे हैं।

बता दें कि नवदीप सैनी के पिता अमरजीत सिंह सैनी हरियाणा सरकार में ड्राइवर की नौकरी करते थे। उनकी सैलरी बहुत ही कम थी। फिर भी उन्होंने अपने बेटे को कोई भी कमी महसूस नहीं होने दी।

नवदीप सैनी के दादाजी करम सिंह 100 साल से ज्यादा के हो गए हैं। उन्होंने नेताजी सुभाष चंद्र बोस के साथ मिलकर जंग लड़ी थी। उनके दादाजी नेताजी की इंडियन नेशनल आर्मी में सैनिक थे। हालांकि उनके दादाजी क्रिकेट के बारे में नहीं जानते हैं। वह अपने पोते को टीवी पर देखकर काफी खुश होते हैं।

Loading...

क्रिकेट खेलने से पहले नवदीप टेनिस बॉल टूर्नामेंट खेलते थे जिससे उनको हर एक मैच से 200 से ₹300 मिल जाते थे। उन्होंने बाद में इन पैसों को इकट्ठा करके करनाल प्रीमियर लीग में ट्रायल दिया और उनकी लाइफ पूरी तरह से बदल गई। सुमित नरवाल ने नवदीप सैनी की प्रतिभा को पहचान लिया और इसके बाद गौतम गंभीर से उनकी मुलाकात करवाई।

गौतम गंभीर ने नवदीप सैनी को यहां तक पहुंचाने में बहुत बड़ी भूमिका निभाई। दिल्ली की रणजी टीम में नवदीप सैनी को मौका देने के लिए चयनकर्ताओं और गौतम गंभीर के बीच बहस हुई थी।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.