Loading...

70 हजार में शुरू कर सकते हैं ये बिजनेस, होगी 1.5 लाख तक की कमाई, मोदी सरकार ऐसे करेगी मदद

0 21

मोदी सरकार ने रोजगार के संबंध में शुरु से ही लोगों को आंत्रप्रेन्‍योरशिप की और प्रोत्साहित किया है ताकि ऐसे लोग खुद के अलावा ज्‍यादा से ज्‍यादा लोगों को रोजगार दे सकें। ऐसे में आज हम आपको एक ऐसे बिजनेस के बारे में बता रहे हैं जो केवल 70 हजार रुपए लगाकर शुरू किया सकता है।

सिर्फ इतना ही नहीं इस बिजनेस में आप करीब 1.5 लाख रुपए सालाना की कमाई भी कर सकते हैं। इसके अलावा इस बिजनेस में आपको सरकार की ओर से 25% की मदद भी मिलती है।

इस तरह होगा यह बिजनेस

आपको बता दें कि ज्‍यादा से ज्‍यादा लोगों को बिजनेस से जोड़ने के लिए केंद्र सरकार ने प्रधानमंत्री रोजगार योजना शुरू की है, जिसमें सरकार 300 से ज्‍यादा करोबार शुरू करने का लोगों को मौका देती है। खास बात यह है कि आप सिर्फ 10% रकम लगाकर (हालांकि अगर एससी एसटी कैटेगरी के हैं तो आपको सिर्फ 5%) इनमें से कोई भी बिजनेस शुरू कर सकते हैं।

Loading...

दरअसल बाकी की रकम आपको सरकार लोन के तौर पर मुहैया कराती है। बता दें कि इसके साथ ही 25% तक सब्सिडी भी मिलती है। मालूम हो कि हम इसी प्रोजेक्‍ट के तहत आने वाले जैम, जेली मुरब्‍बे के बिजनेस के बारे में बता रहे हैं।

जानिए इतना करना होगा इन्‍वेस्‍टमेंट

आपको बता दें कि प्राइम मिनिस्‍टर इम्‍पलायमेंट जनरेशन प्रोग्राम यानि कि PMEGP के तहत इस बिजनेस को लोन दिया जाता है।

दरअसल इसके लिए सरकार ने एक मॉडल प्रोजेक्‍ट रिपोर्ट तैयार की है।

दरअसल इसके मुताबिक इस प्रोजेक्‍ट कॉस्‍ट 7 लाख 70 हजार रुपए है।

बता दें कि इसमें से केवल 10% यानी करीब 77 हजार रुपए आपको लगाना होगा।

मालूम हो कि बाकी का 90% टर्म लोन यानी लगभग 7 लाख रुपए PMEGP के तहत मिल जाएगा।

25 % मिलेगी सब्सिडी

आपको बता दें कि PMEGP के तहत सेल्‍फ इम्‍पलायमेंट को बढ़ावा देने के लिए सरकार की ओर से 25% तक सब्सिडी दी जाती है।

दरअसल सिर्फ इतना ही नहीं अगर आप एससी एसटी कैटेगरी से बिलॉन्‍ग करते हैं यह मदद 35% हो जाएगी।

मालूम हो कि आप जैम-जेली और मुरब्‍बा की यूनिट लगाकर इस स्‍कीम में करीब 1 लाख 90 हजार रुपए की सब्सिडी ले सकते हैं।

ब्‍याज देने की नहीं है टेंशन

आपको बता दें कि PMEGP की सबसे अच्‍छी बात यह है कि इस योजना के तहत आवेदकों को ब्‍याज नहीं देना पड़ता।

हालांकि इस योजना के तहत 13% ब्‍याज दर का प्रावधान है।

बता दें कि इसमें 5 साल के अंदर पैसा लौटाना होता है, लेकिन इस ब्‍याज राशि को सब्सिडी के साथ एडजस्‍ट कर दिया जाता है।

दरअसल इसे कुछ इस तहर से एडजेस्‍ट किया जाता है कि आपको मूल राशि ही लौटानी पड़ती है।

यूं शुरू करें बिजनेस

मालूम हो कि इस प्रोजेक्‍ट का नाम ‘जैम-जेली मुरब्‍बा मैन्‍यूफैक्‍चरिंग स्‍कीम है।

बता दें कि रिपोर्ट के मुताबिक इस प्रोजेक्‍ट में बॉयलर, स्‍टीम कैटल, क्लिीनिंग मशीन जैसी कई चीजें लगानी है।

इसके अलावा इस काम के लिए आपके पास जमीन होनी आवश्यक है, जिसपर 1 हजार स्‍क्‍वायर फिट का शेड बनाया जा सके।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि सेटअप लगाने के बाद आप अपना प्रोडक्शन शुरू कर सकते हैं।

ये है मार्केट पोटेंशियल

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि जैम-जेल और मुरब्‍बा के बिजनेस का हमारे भारत देश में काफी ब्राइट फ्यूचर है।

मालूम हो कि खादी कमीशन से जुड़ा होने के चलते खादी विभाग प्रोडक्‍शन और बिक्री में आपकी मदद करता है।

वहीं इसके अलावा आप इसे रिटल में भी बेच सकते हैं जहां 80 % तक का प्रॉ‍फिट मिल सकता है।

सिर्फ इतना ही नहीं इसके साथ ही किसान और एचयूएल जैसी बड़ी कंपनियों के वेंडर बनकर भी आप अपने माल की सप्‍लाई कर सकते हैं।

होगी 1.5 लाख रुपए की इनकम

बता दें कि रिपोर्ट के अनुसार अगर यूनिट पूरी कैपेसिटी से प्रोडक्‍शन करती है तो सालाना कम से कम 5 लाख के आसपास का प्रोडक्‍शन हो सकता है।

मालूम हो कि इसकी ब्रिकी में आपको आसानी से करीब 40% का मर्जिन मिल सकता है, यानी 5 लाख का सामान आप 7 लाख रुपए में बेच सकते हैं।

इसका मतलब यह हुआ कि आपकी 2 लाख हर साल की कमाई हो जाएगी। हालांकि ये खर्चे सहित फिगर है तो अगर इसमें अन्‍य खर्चों को काट दिया जाए तो नेट प्राफिट करीब 1.5 लाख रुपए का हो जाएगा।

निम्नलिखित व्यक्ति कर सकते हैं ये बिजनेस

आपको बता दें कि सामान्‍य श्रेणी का कोई भी व्‍यक्ति जिसकी उम्र 18 से 35 साल के बीच हो।

इसके साथ ही वह 8वीं पास हो और उसके पास किसी सेक्‍टर की ट्रेनिंग हो।

चाहें वो देश के किसी भी हिस्‍से में रहता हो।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.