Loading...

किसानों के लिए बेहद खास है मोदी सरकार की ये 6 स्कीम, जानिए घर बैठे कैसे उठाएं इनका फायदा

0 21

केंद्र की मोदी सरकार के सामने साल 2022 तक किसानों की आमदनी को दोगुना करना किसी चुनौती से कम नहीं है. दरअसल साल 2016 में प्रधानमंत्री ने नरेंद्र मोदी ने यह लक्ष्य रखा था, इसके बाद सरकार लगातार खेती-किसानी को आसान करने पर फोकस कर रही है.

आपको बता दें कि किसानों की आय बढ़ाने के लिए जिन प्रमुख योजनाओं पर फोकस किया गया है उनमें फसल बीमा योजना, कृषि में मशीनीकरण, जैविक खेती, स्वायल हेल्थ कार्ड और किसानों को बैंक में सीधे सहायता भेजना शामिल है. तो क्या आपने इनका लाभ लिया है. अगर नहीं तो तैयार हो जाइए. चलिए आपका परिचय भी इन स्कीम से करा देते हैं..

(1) फसल बीमा योजना

दरअसल कृषि मंत्रालय के मुताबिक प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत वर्ष 2016 से अब तक देश भर में किसानों को 47,600 करोड़ रुपये के क्लेम का भुगतान किया जा चुका है.

Loading...

(2) कृषि में मशीनीकरण

यह तो हम सब जानते ही हैं कि खेती तभी तरक्की करेगी जब इसमें मशीनों का इस्तेमाल होगा. दरअसल कृषि मंत्रालय के मुताबिक साल 2016 से 2019 के दौरान देश भर में किसानों को 29,54,484 मशीनों का वितरण किया गया है जबकि साल 2010 से 2014 के दौरान सिर्फ 10,12,904 मशीनों का ही वितरण हुआ था. मालूम हो कि मशीन बैंक बनाने के लिए सरकार 40% सब्सिडी भी दे रही है.

(3) राष्ट्रीय कृषि बाजार योजना

मालूम हो कि अब तक सरकार ने देश की 585 मंडियों को ई-नाम यानी कि राष्ट्रीय कृषि बाजार योजना के तहत जोड़ दिया है. दरअसल ई-नाम एक इलेक्ट्रॉनिक कृषि पोर्टल है जो पुरे भारत में मौजूद कृषि उत्पाद विपणन समितियों को एक नेटवर्क में जोड़ने का काम करती है. बता दें कि इसका मकसद सभी कृषि उत्पादों को एक बाजार उपलब्ध करवाना है.

(4) स्वायल हेल्थ कार्ड

अगर किसान को यह बात पता चल जाए कि खेती की सेहत कैसी है उसमें किस खाद की जरूरत है और किसकी नहीं, तो जाहिर है कि खादों का इस्तेमाल कम हो जाएगा और फसल अच्छी होगी. यही वजह है कि सरकार ने स्वायल हेल्थ कार्ड की योजना शुरू की है. एक आंकड़े के अनुसार साल 2015 से 2017 तक 10.73 करोड़ और साल 2017 से 2019 तक 10.69 करोड़ स्वायल हेल्थ कार्ड बांटे गए हैं.

(5) जैविक खेती

आज के दौर में रासायनिक खादों से पैदा होने वाले अनाज और साग-सब्जियों से लोगों की सेहत खराब हो रही है. यही कारण है कि सरकार ने जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिए परंपरागत कृषि विकास योजना शुरू की है.

आपको बता दें कि इसके तहत जैविक खेती को इतना प्रोत्साहित किया जा रहा है कि इस क्षेत्र में अच्छा करने वाले किसानों को पद्मश्री से भी नवाजा गया. मालूम हो कि कृषि मंत्रालय के मुताबिक इस समय देश में 27.10 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में जैविक खेती हो रही है.

(6) प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि स्कीम

आपको बता दें कि देश की आजादी के बाद पहली बार किसी किसी सरकार ने किसानों के बैंक खातों में सीधे पैसा भेजने की शुरुआत की है. दरअसल देश के 14.5 करोड़ किसानों को सालाना 6-6 हजार रुपये खेती-किसानी के लिए मिलने जा रहे हैं.

मालूम हो कि 87,000 करोड़ रुपये की बड़ी राशि सीधे किसानों के अकाउंट में जा रही है. बता दें कि अब तक प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि स्कीम के तहत 5,41,42,319 किसानों के अकाउंट में पहली और दूसरी किस्त का पैसा भेजा जा चुका है.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.