Loading...

खत्म हुई विराट कोहली की सबसे बड़ी टेंशन, अब कोहली-शास्त्री कर सकेंगे इस बात का फैसला

0 3

जब भी भारतीय टीम किसी लंबे विदेशी दौरे पर जाती है तो सवाल उठता है कि क्या उनको अपनी पत्नियों और गर्लफ्रेंड को साथ ले जाने की इजाजत मिलेगी. इस मुद्दों पर अंतिम फैसला बीसीसीआई मैनेजमेंट लेता है और खिलाड़ियों को उनकी मंजूरी लेनी पड़ती है. लेकिन अब खिलाड़ियों की यह टेंशन खत्म हो गई है, क्योंकि प्रशासकों की समिति ने अब ये फैसला करने का अधिकार भारतीय टीम के कप्तान और कोच को दे दिया है. सीओए के ताजा आदेश के मुताबिक, कोच और कप्तान यह फैसला करेंगे कि विदेशी दौरे पर खिलाड़ियों की पत्नियां और गर्लफ्रेंड उनके साथ जाएंगी या नहीं.

यह है सीओए का फैसला

सीओए ने अपने इस फैसले को लेकर कहा- बीसीसीआई मैनेजमेंट ने पत्नी और गर्लफ्रेंड के मामले पर निर्णय लिए. यहां पर यह नोट करने की जरूरत है कि बीसीसीआई के संविधान में क्रिकेट और गैर-क्रिकेट मामलों को अलग रखा जाए. बैठक में यह चर्चा हुई और सीओए ने निर्देश दिया कि किसी भी दौरे पर खिलाड़ियों के परिवार वालों के साथ जाने पर फैसला लेने का हक कप्तान और कोच को होना चाहिए. दूसरा यह कि खिलाड़ियों के फैमिली क्लोज कॉन्ट्रैक्ट में इसे विस्तार से वर्णित किया जाना चाहिए.

Loading...

साल 2014 में इंग्लैंड दौरे पर बना था मुद्दा

2014 में इंग्लैंड दौरे पर भारतीय टीम का प्रदर्शन बेहद खराब रहा था, जिसके बाद खिलाड़ियों की पत्नियों और गर्लफ्रेंड से विदेश दौरे पर जाने पर पाबंदी लगा दी गई थी. विराट कोहली के अनुष्का शर्मा को साथ इंग्लैंड ले जाने पर मीडिया में काफी बवाल हुआ था. उस समय विराट और अनुष्का एक-दूसरे को डेट कर रहे थे. इसके बाद बीसीसीआई ने इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट बोर्ड की नीति को अपनाया और कुछ समय के लिए ही पत्नी और गर्लफ्रेंड को खिलाड़ियों के साथ विदेशी दौरों पर जाने की इजाजत दी थी.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.