Loading...

अब स्मार्टफोन के जरिए कंट्रोल हो सकेगा आपका दिमाग, आने वाली है ऐसी टेक्नोलॉजी

0 9

आज का दौर टेक्नोलॉजी का दौर है. इस दौर में दिन प्रतिदिन बढ़ते प्रतिस्पर्धा से टेक्नोलॉजी का विकास भी काफी तेजी से हो रहा है। दरअसल अब ऐसा हो सकता है कि अगले साल तक ऐसी टेक्नोलॉजी आ जाए कि आपका दिमाग कंप्यूटर या आपके स्मार्टफोन से जोड़ दिया जाए.

जी हां, आपने सही पढ़ा। दरअसल आपको बता दें कि दुनिया की सबसे मशहूर कंपनियों में से एक टेस्ला के चीफ एग्जिक्यूटिव और स्पेस X के संस्थापक एलन मस्क ने एक नई योजना का ऐलान किया है.

दरअसल एलन मस्क की सीक्रेटिव कंपनी ने सैन फ्रांसिस्को में एक इवेंट के दौरान मंगलवार को इस बारे में जानकारी दी. बता दें कि इस योजना के तहत ब्रेन डिसऑर्डर यानी मस्तिष्क के विकारों से जूझ रहे लोगों की मदद की जा सकेगी.

दरअसल कंपनी ने बताया कि न्यूरालिंक एक ब्रेन-मशीन इंटरफेस को विकसित कर रही है जिससे ह्यूमन ब्रेन और कंप्यूटर को कनेक्ट किया जा सकेगा.

Loading...

दिमागी बीमारी का हो सकेगा आसानी से इलाज

आपको बता दें कि अगर यह योजना सफल रहती है तो एलन मस्क के मुताबिक तमाम तरह की दिमागी बीमीरियां ठीक की जा सकेंगी. उनके अनुसार खासकर लकवाग्रस्त लोगों के इलाज में इससे काफी मदद मिलेगी. इसके अलावा और भी तमाम ब्रेन डिसऑर्डर्स को ठीक किया जा सकेगा.

दिमाग में लगाई जाएगी एक खास चिप

मालूम हो कि इस तकनीक की मदद से दिमाग में 4X4mm की एक चिप फिट कर दी जाएगी. जी हां, दरअसल यह चिप हज़ारों माइक्रोस्कोपिक थ्रेड से कनेक्टेड होगी. इन थ्रेड्स में लगे हुए इलेक्ट्रोड्स न्यूरल स्पाइक्स को मॉनीटर करने में सक्षम होंगे.

दरअसल एलन मस्क के मुताबिक इस टेक्नोलॉजी के ज़रिये मानव दिमाग को कंप्यूटर से जोड़ दिया जाएगा, जिससे कंप्यूटर न सिर्फ इंसान के दिमाग को पढ़ पाएगा बल्कि उसे कंट्रोल करने की स्थिति में भी होगा.

अभी तक चूहों पर हुआ है प्रयोग

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस खास तरह की टेक्नोलॉजी का प्रयोग अभी तक चूहों और बंदरों पर किया जा चुका है, लेकिन इंसानों पर अभी इसका प्रयोग किया जाना बाकी है. दरअसल इसे आदमी के मस्तिष्क की स्किन में चिप लगाकर उसे वायर के ज़रिये कनेक्ट किया जाएगा.

फिर इसके बाद इन्हें कानों के पीछे फिट किए गए रिमूवेबल पॉड से लिंक किया जाएगा. फिर इसे किसी डिवाइस जैसे कंप्यूटर या स्मार्टफोन से कनेक्ट कर दिया जाएगा जिससे दिमाग की सारी जानकारी को डिवाइस में सेव किया जा सकेगा.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.