Loading...

क्या आप जानते हैं ट्रेन के डिब्बों पर लिखे हुए इन नंबरों का मतलब, अगर नही तो आज जान लीजिए

0 423

आप लोगों ने अगर ट्रेन में सफर किया है तो आपने सफर के दौरान ट्रेन के डिब्बों पर लिखे हुए कई नंबरों को देखा होगा, लेकिन क्या आप लोगों ने कभी यह सोचा है कि इन सिगरेट डिजिट का या इन कोड नंबरों का मतलब क्या होता है. ट्रेन की हर डिब्बे पर इसी तरह के नंबर लिखे होते हैं और आपने जब ट्रेन में सफर किया होगा तो आपको भी कुछ ऐसे ही नंबर लिखे दिखाई दिए होंगे. लेकिन आप लोगों ने शायद कभी ट्रेन के डिब्बे पर लिखे इन नंबरों के बारे में जानने की कोई कोशिश नहीं की होगी. लेकिन आज आपकी जानकारी के लिए हम आपको बताने वाले हैं इन नंबरों का मतलब क्या है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि यह नंबर एसी चेयरकार के लिए लिखी जाती हैं. 201 से 400 तक स्लीपर सेकंड क्लास, 401 से 600 तक जनरल सेकंड क्लास, 601 से 700 जन शताब्दी की चेयर कार, 701 से 800 तक सिटिंग एंड लगेज. दरअसल आपको बता दें कि यह सभी संख्या बताती हैं कि डिब्बे का निर्माण कब हुआ. ट्रेन के डिब्बे पर लिखे हुए यह नंबर 4 से 6 अंकों के होते हैं. इन नम्बरों के द्वारा ही यह जानकारी मिलती है कि आखिर रेल का यह डिब्बा कौन सी श्रेणी का है और वह रेल का डिब्बा आखिर किस रेलवे जोन के तहत आता है.

ट्रेन के डिब्बे के बाहर लिखी संख्या के 2 शुरुआती अंक यह दर्शाते हैं कि ट्रेन का डिब्बा आखिर किस साल में बनाया गया था. उदाहरण के लिए अगर किसी ट्रेन के डिब्बे पर 8439 लिखा हुआ है तो इसका मतलब है कि उस ट्रेन के डिब्बे को 1984 में बनाया गया था. वहीं अगर किसी डिब्बे के ऊपर संख्या 04052 लिखी हो तो इसका मतलब है कि उस डिब्बे का निर्माण साल 2004 में किया गया था.

Loading...

वही आगे लिखे हुए नंबर इस बारे में बताते हैं कि ट्रेन का वह डिब्बा आखिर किस प्रकार का है जैसे की ऐसी, स्पेशल, स्लीपर और जनरल डिब्बा. आपको शुरू के दो अंको के बारे में तो बता दिया, लेकिन वही आपको बता दें कि लास्ट के तीन अंको में 001-025 का उपयोग ऐसी की फर्स्ट क्लास बोगियों के लिए किया जाता है. 025-050 तक का उपयोग कंपोजिट फर्स्ट एसी और एसी 2 टियर की सीटों के लिए किया जाता है. 050-100 एसी 2 टियर वाली बोगियों पर लिखा होता है. 101-150 ऐसी 3 टियर पर लिखा जाता है. 151-200 के बीच रैक में लिखा जाता है. इसी प्रकार से रेल के हर डिब्बे पर यह विशेष अंक जानकारी के लिए ही लिखे जाते हैं.

यह है कोचों की श्रेणी के लिए महत्वपूर्ण कोड्स

CN का मतलब 3 टियर स्लीपर कोच
CW का मतलब 2 टियर स्लीपर कोच
CB का मतलब पेंट्री/किचन कार/बफे कार
CL का मतलब किचन कार
CR का मतलब स्टेट सलून
CT का मतलब टूरिस्ट कार (फर्स्ट क्लास: इसमें बाथरूम, किचन और सिटिंग कंपार्टमेंट मौजूद होते हैं)
CTS का मतलब टूरिस्ट कार (सेकंड क्लास: इसमें बाथरूम, किचन, बैठने और सोने के लिए कंपार्टमेंट होते हैं)
D का मतलब डबल डेकर
AC का मतकब ऐसी

वही आपको बता दें कि अगर ट्रेन के डिब्बे पर लिखे नंबरों की दाई ओर डब्लूसीआर (WCR) लिखा हुआ है तो समझ जाइए कि ट्रेन के उस डिब्बे को पश्चिमी मध्य रेलवे को आवंटित किया गया है. अगर ईआर (ER) लिखा हो तो इसका मतलब है कि इसे पूर्वी रेलवे को आवंटित किया गया है. एनएफ (NF) का मतलब है उत्तरी सीमांत को आवंटित किया गया है. वहीं अगर एसआर (SR) लिखा हो तो समझ जाएं कि उसे दक्षिण रेलवे के लिए आवंटित किया गया है. अब तो आपको भारतीय रेल से जुड़ी हुई महत्वपूर्ण जानकारी मिल चुकी है. अगर आपको यह जानकारी समझ में आई और आपको अच्छी लगी तो आप इस आर्टिकल पर कमेंट करना ना भूलें और साथ ही इस जानकारी को अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.