Loading...

क्या आप जानते हैं कि रोजाना कैसे और कौन तय करता है सोने के दाम, अगर नहीं तो जानिए

0 17

अगर आपने कभी भी सोना खरीदा हो तो आपने गौर किया होगा कि आपने पहले सोने के क्या भाव चल रहे हैं वो चेक किया होगा और अगर दाम हाल फिलहाल में कम हुए हों तो आपने जरूर सोना खरीद कर अपना भविष्य सिक्योर किया होगा। दरअसल आपकी तरह ही हम सब भी हर दिन कीमत पर नजर डालते हैं ताकि जिस भी दिन वेल्यू गिरे सोने की खरीददारी कर ली जाए।

लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि ऐसा क्यों होता है? दरअसल जब आप नींद ले रहे होते हैं, उस दौरान ऐसा क्या हो जाता है कि बाजार खुलने पर सोना महंगा या सस्ता हो जाता है? इस बारे में एक्सपर्ट्स यह कहते हैं कि सोने की कीमत कई बातों पर निर्भर करती है. इनमें आर्थिक और पॉलिटिकल कारण सबसे अहम हैं.

दरअसल ये घरेलू और ग्लोबल दोनों तरह के हो सकते हैं. जैसे अगर हमारे देश की सरकार ने सोने के इंपोर्ट से जुड़ा कोई नया नियम लागू किया है तो इसका असर सोने की कीमत पर पक्का पड़ेगा.

इसी प्रकार जब सोने का एक्सपोर्ट करने वाले देश में किसी साल उत्पादन घट जाता है तो इसका असर भी घरेलू बाजार में सोने की कीमत पर पड़ता है. इसी तरह देश में या विदेश में ऐसे कई घटनाएं होती हैं, जिनका असर सोने की कीमत पर पड़ता है.

Loading...

जानिए किस तरह तय होती हैं सोने की कीमतें..

आपको बता दें कि बाजार में आप जिस कीमत पर सोना ज्‍वैलर्स से खरीदते हैं, वह स्पॉट प्राइस यानी हाजिर भाव होता है. जी हां, दरअसल ज्यादातर शहरों के सर्राफा एसोसिएशन के सदस्य मिलकर बाजार खुलने के समय दाम तय करते हैं.

मालूम हो कि एमसीएक्स वायदा बाजार में जो दाम आते हैं, उसमें वैट, लेवी एवं लागत जोड़कर दाम घोषित किए जाते हैं. जानिए रोजाना कैसे और कौन तय करता है सोने के भाव

दरअसल आपने गौर किया हो तो यह पाया होगा कि सोने के दाम पूरे दिन चलते हैं. यही वजह है कि अलग-अलग शहरों में सोने की कीमतें अलग-अलग होती हैं. इसके अलावा, स्‍पॉट मार्केट में सोने की कीमत शुद्धता के आधार पर तय होती है.

बता दें कि 22 कैरेट और 24 कैरेट सोने की कीमत अलग-अलग होती है.

MCX पर कैसे तय होते हैं दाम

आपको बता दें कि मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज यानी MCX भारतीय बाजार में सोने की मांग-आपूर्ति के आंकड़ों को जुटाकर और ग्लोबल मार्केट में मुद्रास्फीति की स्थिति को ध्यान में रखकर सोने की कीमतें तय करता है.

साथ ही, यह संगठन लंदन स्थित लंदन बुलियन मार्केट एसोसिएशन के साथ समन्वय करते हुए भी सोने की कीमत तय करता है. बता दें कि वायदा बाजार के भाव पूरे देश में एक से रहते हैं.

जानिए विदेश में किस प्रकार तय होती हैं कीमतें

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि विदेश में कैसे तय होती हैं सोने की कीमतें-सोने की कीमतें कई फैक्टर से तय होती हैं. जी हां, दरअसल अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सोने की कीमतें तय करने के लिए लंदन में एक संचालन और प्रशासनिक इकाई है जो कि अंतरराष्ट्रीय और राष्ट्रीय स्तर पर काम करती है. मालूम हो कि पहली बार वर्ष 1919 में सोने की कीमत फिक्स की गई थी.

बता दें कि साल 2015 के पहले लंदन गोल्ड फिक्स सोने की नियामक इकाई थी जो कीमतें तय करती थीं लेकिन 20 मार्च 2015 के बाद एक नई इकाई लंदन बुलियन मार्केट एसोसिएशन बनाई गई. इसे ICE प्रशासनिक बेंच मार्क चलाता है.

दरअसल ICE ने वर्ष 1919 में बने लंदन गोल्ड फिक्स ईकाई का स्थान लिया है. बता दें कि यह संगठन दुनिया के तमाम देशों की सरकारों से जुड़े राष्ट्रीय स्तर के संगठनों के साथ मिलकर काम करता है और यह तय करता है कि सोने की कीमत क्या होनी चाहिए. मालूम हो कि लंदन के समय अनुसार दिन में दो बार सुबह 10:30 और शाम को 3 बजे सोने की कीमतें तय होती हैं.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.