Loading...

अब तक 30 लाख लोग करा चुके हैं 3000 रुपए की पेंशन के लिए रजिस्ट्रेशन, आप भी जल्दी करा लीजिए

0 617

केंद्र की मोदी सरकार की कई ऐसी योजनाएं हैं जिनका लाभ जरूरतमंद उठा रहे हैं। ऐसी ही एक योजना है पीएम श्रम योजना। दरअसल इसे केंद्र सरकार की ओर से फरवरी 2019 में लॉन्च किया गया था। बता दें कि इस योजना के तहत असंगठित क्षेत्र में कार्यरत लोगों को 60 साल की आयु पूरी करने के बाद 3000 रुपए मासिक पेंशन का प्रावधान है।

अब तक 30 लाख से ज्यादा लोगों ने कराया रजिस्ट्रेशन

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि केंद्रीय श्रम राज्य मंत्री संतोष गंगवार ने सोमवार को लोकसभा में बताया कि इस पेंशन योजना के तहत इस साल 15 फरवरी से रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया शुरू हुई थी। गंगवार के अनुसार, 10 जुलाई तक इस योजना का लाभ लेने के लिए 30,85,205 लोगों ने रजिस्ट्रेशन कराया है।

आपको बता दें कि इस योजना का क्रियान्वयन भारतीय जीवन बीमा निगम यानी कि (एलआईसी) की ओर से किया जा रहा है। केंद्र सरकार अगले 5 सालों में इस योजना से 10 करोड़ लोगों को जोड़ना चाहती है। बता दें कि इस योजना का लाभ लेने के लिए कॉमन सर्विस सेंटर यानी कि सीएससी के जरिए रजिस्ट्रेशन कराया जा सकता है। देशभर में करीब 3.13 लाख सीएससी सेंटर कार्यरत हैं।

Loading...

इन्हें मिलेगा योजना का लाभ

मालूम हो कि यह योजना दरअसल असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले मजदूरों के लिए है। इनमें घर में काम करने वाले, रेहड़ी लगाने वाले दुकानदार, ड्राइवर, प्लंबर, दर्जी, मिड-डे मील वर्कर, रिक्शा चालक, निर्माण कार्य करने वाले मजदूर, कूड़ा बीनने वाले, बीड़ी बनाने वाले, हथकरघा, कृषि कामगार, मोची, धोबी, चमड़ा कामगार को शामिल किया गया है।

क्या है इस योजना का नियम

आपको बता दें कि इस योजना के लिए असंगठित क्षेत्र के मजदूर की इनकम 15,000 रुपए से अधिक नहीं होनी चाहिए। इसके अलावा सेविंग बैंक अकाउंट या फिर जनधन अकाउंट की पासपोर्ट और आधार नंबर होना चाहिए।

उम्र की बात की जाए तो उम्र 18 साल से कम और 40 साल से ज्यादा नहीं होनी चाहिए। साथ ही पहले से केंद्र सरकार की किसी अन्य पेंशन स्कीम का फायदा नहीं उठाया जा रहा हो। बता दें कि इस पेंशन स्कीम के लिए लाभार्थी को भी अंशदान भी करना होगा। दरअसल जितना अंशदान लाभार्थी देगा, उतना ही हिस्सा सरकार उसके खाते में जमा करेगी।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.