Loading...

बदल गए हैं जीवन बीमा पॉलिसियों के ये नियम, जानिए IRDAI ने क्या किए हैं बदलाव

0 21

अगर अपने भी जीवन बीमा ले रखा है या लेना चाहते हैं तो आपको बता दें कि बीमा नियामक और विकास प्राधिकरण यानी कि IRDAIने सोमवार को ULIP व नॉन-लिंक्ड उत्पादों सहित जीवन बीमा पॉलिसियों के लिए नए नियम जारी किये हैं।

मालूम हो कि इन नए नियमों के अनुसार, नॉन-लिंक्ड पॉलिसियों में न्यूनतम मृत्यु लाभ को 10 गुना से घटाकर 7 गुना कर दिया गया है। इसके अलावा नॉन लिंक्ड पॉलिसी में यदि ग्राहक 2 साल के बाद पॉलिसी सरेंडर करता है, तो उसे एक निश्चित राशि मिलेगी। वहीं, साथ ही नॉन-लिंक्ड पॉलिसी को रिन्यू कराने की समयसीमा को 2 साल से बढ़ाकर अब 5 साल कर दिया गया है।

दरअसल विशेषज्ञों के अनुसार जीवन बीमा पॉलिसियों के नियमों में किये गए ये बदलाव ग्राहकों को लंबे समय में मदद करने वाले हैं। बता दें कि इन नए नियमों में एकल पॉलिसी के लिए न्यूनतम अवधि 5 वर्ष निर्धारित कर दी गई है।

नए नियमों के अनुसार, ग्राहकों को पेंशन उत्पादों से बीमा राशि का 25% हिस्सा निकालने की अनुमति होगी। मालूम हो कि यह केवल गंभीर बीमारी, विवाह और बच्चों की शिक्षा जैसी इमरजेंसी की स्थिति में ही किया जा सकेगा।

Loading...

बता दें कि अगर कोई ग्राहक ऐसा है जो राइडर के साथ ULIP खरीदना चाहता है, तो वो अतिरिक्त प्रीमियम की अनुमति ले सकता है। दरअसल आपको बता दें कि यूलिप पॉलिसी में, ग्राहकों को अब अतिरिक्त प्रीमियम के भुगतान के साथ गंभीर बीमारी सहित कई राइडर्स जोड़ने की अनुमति दी जाएगी।

वैसे मौजूदा समय में, यदि कोई ग्राहक यूलिप पॉलिसी में राइडर को लेता है, तो कंपनी के पास यूनिट को कम करने का विकल्प होता है।

यहां आपको बता दें कि मई के महीने में IRDAI ने जीवन बीमा पॉलिसियों के लिए बीमा क्षेत्र में नए नियमों को मंजूरी दी थी। दरअसल अब यह उम्मीद की जा रही है कि इस कदम से बीमा क्षेत्र को फायदा होगा क्योंकि इससे ग्राहकों के लिए नए उत्पादों और सेवाओं को शुरू करने की प्रक्रिया पहले से अधिक आसान होगी।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.