Loading...

आम लोगों को जल्द मिलेगी पेट्रोल की बढ़ती कीमतों से राहत, मोदी सरकार का ये है नया प्लान

0 8

अब जल्द ही पेट्रोल की जगह इस ईंधन से गाड़ियां चलेंगी. जी हां, दरअसल TVS ने देश की पहली एथेनॉल से चलने वाली बाइक को मार्केट में उतार दिया है. आपको बता दें कि दोपहिया वाहन निर्माता कंपनी टीवीएस ने अपाचे आरटीआर 200 एफआई ई100 को हाल ही में लॉन्च किया है.

हालांकि अब सवाल ये खड़ा होता है कि बाइक के लिए एथेनॉल आएगा कहां से. दरअसल इसी बीच केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने संकेत दिए हैं कि जल्द ही देश में एथेनॉल की बिक्री के लिए पंप लगाए जा सकते हैं. यहां आपको बता दें कि देश में इस समय एथेनॉल की बिक्री का एक भी पंप भी नहीं है.

दरअसल केंद्रीय मंत्री का कहना है कि जल्द लोगों को वायु प्रदूषण से मुक्ति मिलेगी. बता दें कि केंद्र सरकार ने राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली को वायु प्रदूषण से मुक्त बनाने के लिए 2 साल का लक्ष्य रखा है.

दरअसल इसके लिए इलेक्ट्रिक बसें, बाइक, ऑटो रिक्शा और कारों में एथेनॉल का इस्तेमाल होना बहुत जरूरी है. उन्होंने वाहनों में पेट्रोल के स्थान पर एथेनॉल के इस्तेमाल को बढ़ावा देने की वकालत की थी.

Loading...

बता दें कि केंद्रीय मंत्री ने कहा था कि एथेनॉल की सुचारू आपूर्ति के लिए वो तेल एवं गैस मंत्रालय को पत्र लिखकर एथेनॉल पंपों की स्थापना के लिए कहेंगे. मालूम हो कि उन्होंने यह संकेत दिया था कि इन पंपों की स्थापना की शुरुआत गन्ना उत्पादक राज्यों उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र और कर्नाटक से हो सकती है.

जानिए क्या है एथेनॉल क्या है और कितना सस्ता है ये पेट्रोल से

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि एथेनॉल एक इको फ्रेंडली ईंधन है जिसका निर्माण गन्ने के रस से किया जाता है. मालूम हो कि एथेनॉल का निर्माण चीनी मिलों में किया जाता है. यह नॉन-टॉक्सिक, बायोडिग्रेडेबल साथ ही संभालने में आसान, स्टोर और ट्रांसपोर्ट के लिए सुरक्षित है.

दरअसल यह एक ऑक्सीजनयुक्त ईंधन है जिसमें 35% ऑक्सीजन होती है. आपको बता दें कि एथेनॉल के इस्तेमाल से नाइट्रोजन ऑक्साइड उत्सर्जन में कमी आती है. यही कारण है कि सरकार पेट्रोल के स्थान पर एथेनॉल के इस्तेमाल को बढ़ावा दे रही है.

मालूम हो कि सरकार ने पेट्रोल में भी 10 % एथेनॉल मिश्रण की मंजूरी दे दी है. इस समय एथेनॉल की 52.43 रुपये प्रति लीटर है जो पेट्रोल से करीब 20 रुपये सस्ती है.

इस देश में एथेनॉल से चलते हैं 100% वाहन

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि एथेनॉल के वाहनों में प्रयोग की शुरुआत सबसे पहले करीब 40 साल पहले ब्राजील में की गई थी. जी हां, दरअसल साल 1979 से ब्राजील की ऑटोमोबाइल कंपनियां 10% एथेनॉल से चलने वाले वाहनों का निर्माण कर रही हैं.

मालूम हो कि ब्राजील में सबसे ज्यादा एथेनॉल का निर्माण किया जाता है. दरअसल यहां गन्ने के रस से एथेनॉल तैयार किया जाता है. बता दें कि भारत में पिछले साल एथेनॉल का बाजार करीब 11 हजार करोड़ रुपये का था जिसके इस साल 20 हजार करोड़ रुपये तक पहुंचने की उम्मीद है.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.