Loading...

अगर बैंक में आपने दिया गलत आधार तो लग सकता है 10 हजार रुपए का जुर्माना, जानिए इसके बारे में

0 15

केंद्र की मोदी सरकार ने लोगों को राहत देते हुए अब बड़े लेन-देन के लिए पैन की जगह पर आधार कार्ड नंबर का विकल्प भी दे दिया है. जी हां, अब ऐसे में अगर आप लेन-देन में आधार कार्ड का इस्तेमाल कर रहे हैं तो ये खबर आपके लिए काफी जरूरी साबित हो सकती है.

दरअसल ऐसा इसलिए क्योंकि बैंक के किसी भी काम में अगर आपने गलत आधार नंबर दिया तो आप पर 10 हजार रुपये का जुर्माना लगाया जा सकता है. बता दें कि संबंधित प्रावधान और अधिसूचना जारी होने के बाद यह दंडात्मक प्रावधान 1 सितंबर, 2019 से लागू होने की संभावना है.

बता दें कि बैंक अधिकारियों के मुताबिक अगर बैंक के किसी भी लेन-देन से जुड़े दस्तावेजों में आधार संख्या सही नहीं पाई गई तो इसे प्रमाणित करने वाले पर भी 10 हजार रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा. हालांकि जुर्माना लगाने से पहले संबंधित व्यक्ति की बात सुनी जाएगी.

मालूम हो कि बैंक अधिकारी के अनुसार इस बार बीती 5 जुलाई को पेश किए बजट में आधार से जुड़े जो भी नए नियम बनाए गए हैं उसके हिसाब ही नियमों को संशोधित किया जा रहा है.

Loading...

जी हां, बता दें कि साल 2019-20 का बजट पेश करते हुए वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा था कि बैंक में बड़े लेन-देन के लिए अब पैन कार्ड की जरूरत नहीं पड़ेगी. इसके लिए आधार कार्ड का इस्तेमाल किया जा सकेगा.

यही नहीं, इसके लिए धारा 272बी में संशोधन किया जाएगा. दरअसल विशेषज्ञों के अनुसार, आयकर अधिनियम की धारा 272बी में पैन के उपयोग से संबंधित उल्लंघनों पर दंडात्मक प्रावधान हैं.

PAN आधार लिंक करना है आवश्यक

दरअसल सीबीडीटी प्रमुख ने इस विषय में कहा कि, कानून में प्रावधान है कि आकलन अधिकारी स्वत: ही पैन भी आवंटित कर सकते है. इसलिए, यदि बिना पैन के आधार का इस्तेमाल किया जाता है तो मैं उन्हें पैन जारी करूंगा और वे आपस में जुड़ जाएंगे. बता दें कि सीबीडीटी प्रमुख ने कहा कि दोनों डेटाबेस को जोड़ना अब जरूरी है और कानून में भी इसका प्रावधान है.

आधार से हुए 22 करोड़ PAN लिंक

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने हाल ही संसद में पेश हुए आम बजट भाषण में कहा था कि 1.2 अरब से अधिक भारतीयों के पास आधार कार्ड हैं. वहीं देश में 22 करोड़ लोगों ने पैन को आधार से लिंक कराया है.

वित्तमंत्री ने बताया कि करदाता पैन नंबर न होने पर आधार कार्ड नंबर से आयकर रिटर्न भर सकते हैं. इसके अलावा बैंक खाता खोलने, क्रेडिट या डेबिट कार्ड के लिए आवेदन करने, होटल व रेस्तरां बिलों का भुगतान करने के लिए आधार नंबर इस्तेमाल कर सकते हैं.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.