Loading...

2 से 2.5 लाख में शुरू कर सकते हैं रजनीगंधा की खेती, हर महीने होगी 2 लाख रुपए तक की कमाई

0 20

अगर आप कुछ अलग एवं हटकर बिजनेस करने की सोच रहे हैं तो बता दें कि आप फूलों की खेती कर सकते हैं। दरअसल यह बेहद लाभदायक होती है। हालांकि, इस बात का चुनाव करना बेहद जरूरी होता है कि कौन से फूलों की खेती कम लागत में ज्‍यादा लाभदायक होती है।

लेकिन चिंता न करें क्योंकि आज हम आपको ऐसे ही एक फूल के बारे में बताने जा रहे हैं जिसकी खेती करने से आपको अच्छी खासी मात्रा में लाभ होगा। दरअसल हम बात कर रहें हैं रजनीगंधा नामक फूल के बारे में।

जी हां, दरअसल रजनीगंधा उगाने में न सिर्फ खर्च कम आएगा बल्कि इससे कमाई आप 2 से 2.5 लाख रुपए महीना तक कर सकते हैं।तो चलिए जानते हैं रजनीगंधा की खेती के बारे में सबकुछ..

Loading...

इतनी आती है लागत

मालूम हो कि रजनीगंधा फूलों की खेती को भारत के हर हिस्‍से में किया जा सकता है।

दरअसल रजनीगंधा के बीज के स्‍थान पर इसकी कलम रोपना ज्‍यादा अच्‍छा रहता है।

बता दें कि लगभग 1 हेक्‍टेयर में करीब 12 क्विंटल कलमें रोपी जाती हैं।

मालूम हो कि कलमों और इसे रोपने व शुरूआती देखरेख में खर्च 1 से 1.5 लाख रुपए आता है।

वहीं सबसे खास बात यह है कि रजनीगंधा की फसल को कीट और बीमारियों का कोई खतरा नहीं होता।

3 प्रजातियों की है ज्‍यादा डिमांड

आपको बता दें कि भारत में रजनीगंधा की 3 प्रजातियों को बेाया जाता है जिनकी खासी डिमांड है।

कलकत्‍ता सिंगल: इस प्रजाति के फूल सफेद रंग के होते हैं।

कलकत्‍ता डबल: इस प्रजाति के फूलों पर दोहरी पंखुड़ी होती है हल्‍का गुलाबी होता है।

स्‍वर्णलता: बता दें कि यह भी डबल किस्‍म की तरह ही है इस पर भी हल्‍की गुलाबी रंग की पंखुड़ी होती है।

इतने दिनों में होती है कमाई

मालूम हो कि रजनीगंधा की तीनो प्रजातियों पर 90 से 120 दिनों बाद फूल आने लगते हैं।

बता दें कि 1 हेक्‍टेयर खेत से 2.5 से 3 लाख स्‍पाईक (फूल समेत डंठल) मिल जाते हैं।

यही नहीं इसके अलावा 15 से 20 टन बल्‍ब व लेट्स भी प्राप्‍त होते हैं जिनकी अलग कीमत होती है।

बता दें कि यह पहले साल की फसल है, रजनीगंधा लगातार 3 सालों तक फसल देता है।

वहीं अगर आप कुछ अंतराल के बाद हर दिन फूल लेना चाहते हैं तो 15वें दिन रोपाई करें।

सिर्फ फूलों से कमाएं 25 से 30 लाख रु

आपको बता दें कि रजनीगंधा के एक स्‍पाईक की विभिन्‍न मंडियों में कीमत 12 से 20 रुपए मिलती है।

मालूम हो कि अगर 2.5 लाख स्‍पार्इक होते हैं और कम से 10 रुपए भी कीमत भी मिलती है।

तो इस हिसाब से आप पूरे साल में 25 लाख रुपए सिर्फ फूलों से कमा सकते हैं।

इसके अलावा बल्‍व आदि बेचकर लागत काटकर 2 से 2.5 लाख रुपए प्रति माह आराम से कमाई हो जाती है।

लगभग हर राज्‍य में मिलती है मदद

बता दें कि रजनीगंधा की मांग विदेशों में भी बहुत है। इसकी खपत पूरे साल लगभग एक जैसी होती है।

जिन राज्यों में बड़ी मात्रा में खेती होती है उनमें उत्तरप्रदेश, कर्नाटक, छत्‍तीसगढ़, महाराष्‍ट्र, गुजरात एवं हरियाणा शामिल हैं।

बता दें कि इन राज्‍यों में फ्लोरीकल्‍चर यानी फूलों की खेती के लिए सरकारी सब्सिडी दी जाती है।

हालांकि अलग अलग राज्‍यों में समय समय पर सब्सिडी की सीमा अलग अलग होती है।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.