Loading...

अब समुंदर का पानी भी बनेगा पीने लायक, मोदी सरकार लगाएगी डीसैलीनेशन प्लांट

0 10

एक अनुमान के अनुसार अगले कुछ सालों में भारत में पानी खत्म हो जाएगा ऐसे में देश में बढ़ती पानी की समस्या से निपटने के लिए नीति आयोग समुद्र के पानी को पीने लायक बनाने की दिशा में काम करा रहा है।

जी हां, दरअसल आयोग देश की तटीय रेखा के समानांतर 7,800 किमी तक डीसैलीनेशन प्लांट्स लगाने की योजना पर काम कर रहा है। यह प्लांट्स खारे पानी को पीने लायक बनाएंगे।

मालूम हो कि इस पानी को पाइपलाइन के जरिए लोगों के घरों तक भेजा जाएगा। आपको बता दें कि नीति आयोग का यह प्लान ऐसे समय में काफी अहम है जब देश के कई हिस्सों में पीने के पानी की किल्लत हो रही है।

सौर या तरंग ऊर्जा से चलेंगे ये प्लांट्स

Loading...

मालूम हो कि द इकोनॉमिक टाइम्स की खबर के मुताबिक ये प्लांट्स पानी के ऊपर तैरते हुए या तट के किनारे लगाए जा सकते हैं। दरअसल इनका संचालन सौर ऊर्जा या तरंग ऊर्जा से किया जाएगा।

बता दें कि किसी देश की जलीय हिस्सा उसके तट से 12 नॉटीकल मील तक मापा जाता है। देश का जलीय एक्सक्लूसिव इकोनॉमिक जोन यानी कि EEZ 20 नॉटीकल मील तक हो सकता है। यहां आपको बता दें कि एक नॉटिकल मील 1.82 किमी का होता है। वहीं भारत का EEZ 16.3 किमी वर्ग का है।

हर घर स्वच्छ जल पहुंचाना है सरकार की प्राथमिकता

आपको बता दें कि मोदी सरकार ने वर्ष 2024 तक हर घर को स्वच्छ जल पहुंचाने का लक्ष्य रखा है। दरअसल सरकार ने इसके लिए जल शक्ति मंत्रालय बनाया है और जल शक्ति अभियान शुरू किया है।

मालूम हो कि नीति आयोग जल्द ही जल शक्ति मंत्रालय से इस प्रोजेक्ट के बारे में चर्चा करेगा और इसमें आने वाले खर्च का ब्योरा सौंपेगा। बता दें कि वह आयोग कई तकनीकों के बारे में विस्तृत योजना बनाएगा, जिनके इस्तेमाल से अलग-अलग राज्यों में व्यावसायिक रूप से साध्य प्लांट लगाए जा सकें।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.