Loading...

अमीरों पर टैक्स लगाने के मामले में सबसे पीछे है भारत, सबसे आगे हैं ये देश

0 11

हाल ही में बजट में देश में अमीरों पर आयकर बढ़ाने के फैसले से किए गए नये प्रावधानों को उचित ठहराते हुए वित्त मंत्रालय ने कहा है कि भारत में व्यक्तिगत आयकर की उच्चतम दरें अब भी अमेरिका, चीन और दक्षिण अफ्रीका सहित कई अन्य देशों के मुकाबले कम है।

दरअसल राजस्व सचिव अजय भूषण पांडे ने कहा कि चीन और दक्षिण अफ्रीका में व्यक्तिगत आयकर की उच्चतम दर 45-45% और अमेरिका में 50.3% है।

आपको याद दिला दें कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारामण ने शुक्रवार को आम बजट पेश करते हुए दो-पांच करोड़ रुपये की सालाना व्यक्तिगत आय पर कर अधिभार की दर 15 से बढ़ाकर 25% और पांच करोड़ रुपये से अधिक की आमदनी वालों पर अधिभार 37% कर दिया।

वहीं अधिभार में वृद्धि के बाद 2-5 करोड़ रुपये तक की व्यक्तिगत आय पर कर का कुल बोझ बढ़कर 35.88 से बढ़कर 39% और पांच करोड़ रुपये से अधिक की आमदनी पर 35.88 से बढ़कर 42.7% हो जाएगा।

Loading...

बता दें कि पांडे ने कहा कि अधिभार में वृद्धि से पहले भारत में अधिकतम कराघात 35.88% था जबकि ब्रिटेन में यह 45%, जापान में 45.9, कनाडा में 54 और फ्रांस में 66% है।

उन्होंने कहा, ”भारत में हम हमारी अधिकतम दर 35% थी इसलिए समानता और भुगतान क्षमता की दृष्टि से क्या 10 लाख रुपये और दस करोड़ रुपये की आमदनी वालों को बराबर दर से कर चुकाना चाहिए”

दरअसल पांडे ने कहा कि, ”निश्चित रूप से 11-14 लाख रुपये की बीच की आमदनी वाले लोगों के पास कुछ तो बचत करने का मौका होना चाहिए इसलिए जो लोग ज्यादा कमा रहे हैं, उन्हें ज्यादा कर देना ही चाहिए।”

आपको बता दें कि वित्त मंत्री ने अपने बजट भाषण में धनाढ्यों पर आयकर अधिभार बढ़ाने का प्रस्ताव करते हुए कहा था कि कर चुकाने वाले राष्ट्र निर्माण में बड़ी भूमिका निभा रहे हैं। उन्होंने कहा था कि लोगों की आमदनी का स्तर बढ़ रहा है, ऐसे में उच्चतम आय के दायरे में आने वाले लोगों को राष्ट्र के विकास में अधिक योगदान करने की जरूरत है।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.