Loading...

जारी होंगे 1,2,5,10 और 20 रुपये के नए सिक्के, होगी ये खासियत

0 45

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने आज Budget 2019 पेश कर दिया. आपको बता दें कि इस बार के बजट को देश का बहीखाता करार देते हुए सीतारमण ने कई बड़े ऐलान तो किए ही साथ ही शेरो शायरियों के जरिये अपनी बात कहीं. मालूम हो कि इस दौरान वित्त मंत्री ने ऐलान किया कि 1, 2, 5, 10 और 20 रुपये के नए सिक्के जारी किए जाएंगे.

दरअसल सीतारमण ने कहा, ‘इन सिक्कों को दृष्टि बाधित लोग आसानी से पहचान सकेंगे. उन्होंने कहा कि 7 मार्च को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इन सिक्कों को जारी कर चुके हैं. ये सिक्के जल्द ही सार्वजनिक तौर पर उपलब्ध हो जाएंगे.’

बुनियादी ढांचे में निवेश पर होगा जोर

बता दें कि इससे पहले केंद्रीय वित्‍त एवं कॉरपोरेट कार्य मंत्री निर्मला सीतारामन ने शुक्रवार को 2019-20 का बजट पेश करते हुए कहा कि भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था इस वर्ष 3 ट्रिलियन डॉलर की हो रही है.

Loading...

दरअसल उन्होंने कहा कि परचेजिंग पॉवर की समानता के रूप में यह विश्‍व की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्‍यवस्‍था है. सीतारमण ने कहा कि सरकार की इच्‍छा अगले 5 वर्षों में बुनियादी ढांचे में 100 लाख करोड़ रुपये निवेश करना और 2019-20 में एक लाख 5 हजार करोड़ रुपये के विनिवेश लक्ष्‍य को बढ़ाना है.

क्रेडिट को बढ़ावा मिले इसलिये पीएसबी को 70 हजार करोड़

आपको बता दें कि सीतारमण ने यह कहा कि क्रेडिट को बढ़ावा देने के लिए पीएसबी को 70 हजार करोड़ रुपये उपलब्‍ध कराने का प्रस्‍ताव, अंतिम 5 वर्षां में खाद्य सुरक्षा बजट को दोगुना करना, 10 हजार करोड़ रुपये के खर्च से विद्युत वाहनों को तेजी से अपनाना, अफ्रीका में 18 नए भारतीय दूतावास मिशन खोलना,‍ 17 महत्‍वपूर्ण पर्यटन स्‍थलों का विकास किया जाएगा.

दरअसल अपने पहले बजट भाषण में वित्‍तमंत्री ने कहा कि जलजीवन मिशन के तहत साल 2024 तक सभी ग्रामीण परिवारों के हर घर को जल उपलब्‍ध कराया जाएगा और वहीं साल 2022 तक प्रधानमंत्री आवास योजना-ग्रामीण के तहत सभी को घर उपलब्‍ध कराया जाएगा.

20 आजीविका व्‍यापार केंद्रों और 20 तकनीकी व्‍यापार केंद्रों की होगी स्‍थापना

बता दें कि वित्तमंत्री ने कहा कि अगले 5 वर्षों में पीएमजीएसवाई-3 के तहत 80 हजार करोड़ रुपये से अधिक की लागत से 1,25,000 किलोमीटर लंबी ग्रामीण सड़कें बनायी जाएंगी.

मालूम हो कि इन सड़कों की हर मौसम में कनेक्टिविटी 97% से अधिक होगी. इसके अलावा बांस, शहद और खादी कलस्‍टरों के तहत आम सुविधा केंद्रों की स्‍थापना की जाएगी.

आपको यह भी बता दें कि इस बार के बजट में कृषि ग्रामीण उद्योग क्षेत्रों में 75 हजार कुशल उद्यमियों के विकास के लिए 2019-20 के दौरान 20 आजीविका व्‍यापार केंद्रों और 20 तकनीकी व्‍यापार केंद्रों की स्‍थापना और साथ ही अर्थव्‍यवस्‍था के ग्रामीण और कृषि क्षेत्रों में किए जाने वाले महत्‍वपूर्ण और नए काम हैं.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.