Loading...

घर की सफाई कर रहा था दंपति तभी पुराने अखबार में लिपटा मिला कुछ कैसा कि रातोंरात बन गए करोड़पति

0 289

ब्रिटेन से एक बेहद ही चौकाने वाली खबर आई है जिसके बारे में सुनकर आप दंग रह जाएंगे। जी हां, दरअसल हुआ यूं कि यहां रहने वाले एक दम्पति को घर में पड़े पुराने अखबार में ऐसी चीज मिली कि वो रातों-रात करोड़पति हो गए।

जी हां, दरअसल उन्हें अपने घर में पुराने अखबार में लिपटी हुई टीपू सुल्तान की कुछ चीजें मिलीं। आपको बता दें कि वर्ष 1799 में अंतिम आंग्ल-मैसूर युद्ध में टीपू की हार हुई थी। इसके बाद उनकी चीजों को ब्रिटेन ले जाया गया था। मालूम हो कि टीपू के सामान की ऑक्सफोर्डशायर के मिल्टन हाउस होटल में 26 मार्च को नीलामी होगी।

दरअसल टीपू का यह खजाना तत्कालीन ईस्ट इंडिया कंपनी के मेजर थॉमस हार्ट ब्रिटेन ले गए थे। आपको बता दें कि इसमें टीपू की बंदूक, चार तलवारें, एक ढाल, टीपू की मुद्रा वाली अंगूठी और एक सुपारी रखने की डिब्बी शामिल है।

Loading...

दरअसल टीपू की यह कीमती धरोहर सालों से ब्रिटेन के बर्कशायर में रहने वाले हार्ट के परिवार के पास रहीं। परिवार को इसकी कीमत के बारे में कोई जानकारी नहीं थी। मालूम हो कि वर्ष 2016 में टीपू के अन्य सामानों की नीलामी 6 मिलियन पाउंड यानि कि करीब 55 करोड़ रुपए में हुई थी।

आपको बता दें कि नीलामीकर्ता एंथनी क्रिब ने इस संबंध में अपने विचार रखे हैं। दरअसल मुताबिक इस परिवार के पास टीपू की जो धरोहर है, उसकी कीमत बताना तो मुश्किल है हालांकि पहले बेची गई चीजों के मुकाबले इसका महत्व ज्यादा है।

क्रिब आगे कहते हैं कि, “टीपू के सामान पर फिलहाल जिनका मालिकाना है, वे एक सामान्य परिवार से ताल्लुक रखते हैं। ये चीजें काफी महंगी हैं। आप कह सकते हैं कि उनकी तो लॉटरी लग गई।”

टीपू के बारे में आपको बता दें कि मैसूर में हैदर अली के बाद टीपू शासक बना। माना जाता था कि उसके फ्रांसीसियों से बेहतर संबंध थे। वह फ्रांस के जैकोबिन क्लब का भी सदस्य था। एक ब्रिटिश जासूस ने नेपोलियन द्वारा टीपू को भेजा एक पत्र पकड़ा था जिसमें अंग्रेजों के खिलाफ गठबंधन करने की बात कही गई थी।

फिर इसके बाद ही ईस्ट इंडिया कंपनी ने उसके खिलाफ जंग छेड़ दी। वर्ष 1799 में अंतिम युद्ध के बाद ब्रिटिश सेनाओं ने मैसूर शहर और टीपू के महल को तहस-नहस कर दिया और खजाना-सैन्य साजोसामान लूटकर ले गए।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.