Loading...

भारत में ही तैयार किए जाएंगे बुलेट ट्रेन के डिब्बे, सरकार खर्च करेगी 20,500 करोड रुपए

0 21

वो दिन दूर नहीं जब भारत में भी बुलेट ट्रेन रफ्तार पकड़ेगी। जी हां, दरअसल महाराष्ट्र के मुंबई और गुजरात के अहमदाबाद के बीच चलने वाली पहली हाईस्पीड बुलेट ट्रेन के निर्माण की प्रक्रिया तेजी से चल रही है। बता दें कि इस बीच सरकार ने जानकारी दी है कि बुलेट ट्रेन में इस्तेमाल होने वाले डिब्बों का निर्माण भारत में भी किया जाएगा। हालांकि, भारत में डिब्बे केवल असेंबल होंगे। यह कार्य जापानी कंपनी ही करेगी।

रेल मंत्री ने संसद में दी जानकारी

दरअसल एक सवाल के जवाब में रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि मुम्बई-अहमदाबाद हाई स्‍पीड रेल परियोजना के लिए 24 गाड़ी सेट खरीदे जाएंगे। बता दें कि रेल मंत्री ने आगे बताया कि राष्‍ट्रीय हाईस्‍पीड रेल कार्पोरेशन लिमिटेड (यानी कि एनएचएसआरसीएल) और जापानी के बीच हुए समझौते के बीच के अनुसार, मेक इन इंडिया को बढ़ावा देने के उद्देश्‍य से इन 24 गाड़ी सेटों में से 6 गाड़ी सेटों को भारत में असेम्‍बल किया जाएगा।

बुलेट ट्रेन के निर्माण में आएगा 20,500 करोड़ रुपए का खर्च

Loading...

मालूम हो कि रेल मंत्री ने बताया कि मुम्‍बई-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन परियोजना के निर्माण में कुल 1,08,000 करोड़ रुपए के करीब खर्च होने का अनुमान है। इसमें से 81% खर्च जापान इंटरनेशनल को-ऑपरेशन एजेंसी (जीका) के माध्‍यम से किया जाएगा। वहीं भारत की ओर से शेष 19% यानी करीब 20,500 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे। रेल मंत्री ने यह भी बताया कि इस परियोजना के साल 2023 तक पूरा होने की उम्मीद है।

दिसंबर तक पूर्ण हो जाएगा जमीन का अधिग्रहण

बता दें कि एनएचएसआरसीएल के अनुसार 508 किलोमीटर लंबी मुंबई-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन परियोजना के लिए आवश्यक भूमि के ज्यादातर हिस्से पर इस साल के अंत तक अधिग्रहण कर लिया जाएगा। दरअसल एनएचएसआरसीएल की प्रवक्ता सुषमा गौर ने कहा है कि परियोजना की निविदा प्रक्रिया पूरी होते ही जरूरी भूमि का अधिग्रहण कर लिया जाएगा।

उनके मुताबिक भूमि के ज्यादातर हिस्से का अधिग्रहण दिसंबर 2019 तक हो जाएगा। बता दें कि एनएचएसआरसीएल ने अब तक 1,380 हेक्टेयर की 39% (यानी कि 537 हेक्टेयर) भूमि का अधिग्रहण कर लिया है, जिसमें गुजरात में 940 हेक्टेयर में से 471 हेक्टेयर और महाराष्ट्र में 431 हेक्टेयर में से 66 हेक्टेयर भूमि पर कब्जा कर लिया है।

320 किलोमीटर प्रतिघंटा से दौड़ेगी ये गाड़ी

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि भारत में बुलेट ट्रेनों के 320 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से दौड़ने की उम्मीद है. इस हिसाब से 508 किलोमीटर की दूरी लगभग 2 घंटों में पूरी हो जाएगी। बता दें कि इसकी तुलना में, फिलहाल इस दूरी को तय करने में ट्रेनें 7 घंटों का समय लेती हैं, जबकि विमान लगभग 1 घंटे का समय लेता है। मालूम हो कि बुलेट ट्रेन के लिए महाराष्ट्र में बोइसर और बांद्रा-कुर्ला कॉम्प्लेक्स के बीच 21 किलोमीटर लंबी सुरंग खोदी जाएगी, जिसका 7 किलोमीटर हिस्सा समुद्र के अंदर होगा.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.