Loading...

नेपाल ने भारत के इन सामानों को खरीदने से किया साफ इंकार, जानिए क्या है नेपाल का नया नियम

0 23

भारत के पड़ोसी देश ने एक झटका दिया है. जी हां, दरअसल हम पाकिस्तान की नहीं बल्कि नेपाल की बात कर रहे हैं. दरअसल नेपाल ने एक बड़ा कदम उठाते हुए भारत से जाने वाली सब्जियों और फलों को खरीदने पर रोक लगा दी है.

जी हां, बता दें कि मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, नेपाल सरकार ने नए अध्यादेश जारी किया है. इसके तहत में नेपाल की नई व्यवस्था के तहत काठमांडू में लैब टेस्ट के बाद ही भारतीय फलों और सब्जियों को एनओसी मिल सकेगी. दरअसल एनओसी मिलने के बाद ही सब्जी की बिक्री की जा सकेगी. मालूम हो कि सब्जियों के लैब टेस्ट में खरा नहीं उतरने पर नेपाल के कस्टम विभाग ने सैकड़ों भारतीय ट्रकों को वापस कर दिया है.

अब क्या होगा

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि नेपाल सरकार के इस फैसले के बाद कई कारोबारी सीमा पर ही फलों और सब्जियों को स्थानीय आढ़तियों को औने-पौने दाम पर बेचने को मजबूर हो गए हैं। जी हां, वहीं कई ऐसे भी हैं जो अभी भी नेपाली अधिकारियों से हरी झंडी मिलने के इंतजार में कतार में खड़े हैं.

Loading...

बता दें कि इस समस्या को देखते हुए भारत के अधिकारियों ने उच्च अधिकारियों को स्थिति को लेकर बता दिया है और जल्द से जल्द इस समस्या का समाधान निकालने का प्रयास करें.

ये है पूरा मामला

दरअसल नेपाल सरकार की ओर से बनाए गए नए कानून के मुताबिक, अब नेपाल में बिकने वाली सभी सब्जियां और फलों की लैब में टैस्टिंग होगी. जी हां, फिर इसके बाद ही उन्हें बेचने की अनुमति मिलेगी.

हालांकि मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो, भारत की सब्जियों और फलों में भारी पैमाने पर कीटनाशकों का प्रयोग किया जा रहा है. जिससे उनके नागरिकों के ऊपर उसके इस्तेमाल से बुरा प्रभाव पड़ रहा है और लोग बीमार हो रहे हैं.

ऐसे में भारत से नेपाल आने वाले फलों और सब्जियों की काठमांडु में स्थित उनके लैब में जांच होगी और मानकों पर खरा उतरने के बाद ही सामानों को नेपाल में लाने की अनुमति दी जाएगी.

बता दें कि इस पूरे मामले पर अधिकारियों का कहना है कि नेपाल सरकार ने 17 जून को यह फैसला लिया कि बिना जांच के भारत से सब्जियां और फल नहीं लिया जाएगा.

मालूम हो कि इस फैसले के बाद नेपाल सरकार ने कई भारतीय ट्रक वापस लौटा दिए. बता दें कि फिलहाल भारतीय उच्चाधिकारी इस संबंध में नेपाल के अधिकारियों से बातचीत कर रहे हैं और ऐसे कयास लगाए जा रहे हैं कि जल्द से जल्द इस समस्या का समाधान किया निकल आएगा.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.