Loading...

फर्जी डॉक्टर बनकर 9 साल में कर दिया 90 हजार मरीजों का इलाज, पकड़ा गया तो बोला- ट्रेन में पड़ी मिली थी डिग्री

0 34

राजस्थान पुलिस द्वारा सीकर में एक प्राइवेट अस्पताल से फर्जी डॉक्टर को पकड़ने का मामला सामने आया है। मानसिंह बघेल (44) को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है जो कृष्ण कन्हैया केयर अस्पताल में प्रत्येक महीनेएक लाख रुपए की सैलरी ले रहा था। वह 1 दिन में तकरीबन 25 मरीजों को जांचता था। जब एक मरीज की हालत बिगड़ गई और अस्पताल प्रशासन ने जांच की तो उसका पूरा भांडा फूट गया।

मानसिंह बघेल ने 12वीं कक्षा पास कर ली है और वह 5 महीने से सीकर में तैनात था। इतना ही नहीं वह 9 सालों तक आगरा में क्लीनिक चलाता रहा। उसने 9 सालों में तकरीबन 90000 मरीजों की जांच की। गिरफ्तारी के बाद मानसिंह बघेल ने कहा कि 5 साल पहले जब मैं मथुरा जा रहा था तो उसे ट्रेन में डॉ मनोज कुमार की डिग्री पड़ी मिल गई। उसने वो डिग्री उठा ली और फिर अन्य फर्जी पहचान पत्र भी बनवा लिए।वह सभी मरीजों को एक जैसी ही दबा देता था।

वह मरीजों को इलाज के लिए घरेलू नुस्खे आजमाने की सलाह देता था। इसी महीने के दूसरे सप्ताह में एक महिला दिल की बीमारी का इलाज कराने अस्पताल पहुंची तो इस फर्जी डॉक्टर ने उस महिला को ड्रिप चढ़ा दिया जिससे उसकी हालत बिगड़ गई और उसे दूसरे अस्पताल में एडमिट कराया गया। अस्पताल प्रशासन द्वारा उसके वोटिंग कार्ड की जांच हुई तो दूसरी पहचान मिली। वह आगरा का निवासी है जो सभी मरीजों को पेरासिटामोल जैसी सामान्य दवाई देता था और जिन मरीजों की हालत गंभीर होती थी उन्हें अन्य अस्पताल में रेफर करवा देता था।

बता दे कि फर्जी डॉक्टर को जो डिग्री मिली थी वो डाॅक्टर मनाेज कुमार की है जिसका हरियाणा के पलवल जिले में सहारा अस्पताल है। मनोज कुमार की पत्नी भी डॉक्टर है जिसका नाम प्रियंका है। मनोज कुमार ने बताया कि मेरी डिग्री साल 2005 में बस से चोरी कर ली गई। मैंने इसकी रिपोर्ट भी दर्ज कराई। अब पुलिस द्वारा मामले की जांच की जा रही है कि आखिर फर्जी डॉक्टर को 5 साल पहले वह डिग्री ट्रेन में कैसे मिली।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.