Loading...

आपके लिए खतरनाक है मोबाइल फोन का ज्यादा इस्तेमाल, बदल सकती है आपके चेहरे की बनावट

0 83

ये तो हम सब जानते हैं कि मोबाइल फोन हमारे जीवन का अहम हिस्सा बन गया है. दरअसल स्मार्टफोन के बिना हमारा जीवन अधूरा सा लगता है और अपनी हर जरूरत के लिए हम अब अपने स्मार्टफोन पर निर्भर रहने लगे हैं। लेकिन अब इससे जुड़ी एक चौकाने वाली खबर आई है.

जी हां, दरअसल फोन पर यह निर्भरता हमारे काम को आसान करने के साथ-साथ हमें बीमार भी बना रही है. बता दें कि मोबाइल फोन के ज्यादा इस्तेमाल से शरीर में नई-नई परेशानियां जन्म ले रही हैं.

दरअसल एक हैरान करने वाली रिपोर्ट सामने आई है और रिसर्च बताती है कि मोबाइल के ज्यादा इस्तेमाल से युवाओं के सिर में सींग निकल रहे हैं. जी हां, आपने सही पढ़ा. दरअसल जो युवा सिर को ज्यादा झुकाकर मोबाइल या लेपटॉप का प्रयोग कर रहे हैं, उनकी खोपड़ी में सींग की तरह एक हड्डी विकसित हो रही है.

इस रिचर्स में यह सामने आया चौंकाने वाला तथ्य

Loading...

आपको बता दें कि ऑस्ट्रेलिया की एक यूनिवर्सिटी की एक खास तरह की रिपोर्ट में यह सामने आया है कि 18 वर्ष से 30 वर्ष की आयु के लोगों में सींग जैसी हड्डी के विकसित हो रही है. दरअसल इस रिसर्च में 18 से 86 वर्ष तक के 1200 लोगों के एक्स-रे को शामिल किया गया था.

मालूम हो कि इस रिसर्च के मुताबिक, मोबाइल फोन का इस्तेमाल करने वाले युवाओं के सिर के स्कैन में बेहद चौंकाने वाला सच सामने आया है. जी हां, दरअसल इन सिरों में अब सींग जैसा उभार देखने को मिला है. बता दें कि रिसर्च में 18 से 30 वर्ष के ऐसे युवाओं को शामिल किया गया था जो एक दिन में कई घंटे मोबाइल पर बिताते हैं.

नई हड्डी का हो रहा है विकास

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि दिल्ली के सर गंगाराम अपस्ताल के न्यूरोलॉजिस्ट डॉ. इश आनंद ने इस प्रक्रिया को समझाया. दरअसल उन्होंने बताया कि रीढ़ की हड्डी से शरीर का वजन शिफ्ट होकर सिर के पीछे की मांसपेशियों तक जाता है. इससे कनेक्टिंग टेंडन और लिगामेंट्स में हड्डी विकसित होती है. दरअसल इसी का नतीजा है कि युवाओं में हुक या सींग की तरह की हड्डियां बढ़ रही हैं, जो गर्दन के ठीक ऊपर की तरह खोपड़ी से बाहर निकली हुई हैं.

स्मार्टफोन के अत्यधिक इस्तेमाल से बदल रहा है सिर का आकार

मालूम हो कि सर गंगाराम अपस्ताल के ओरथोपेडिक डिपार्टमेंट के डॉ. रजत चोपड़ा के मुताबिक, मोबाइल फोन का ज़रूरत से ज्यादा इस्तेमाल के चलते सिर में हड्डी निकल रही है. जी हां, दरअसल इस हड्डी की वजह से सिर का आकार ही बदल रहा है और इसकी वजह से सिर में दर्द की समस्या दिन प्रतिदिन बढ़ रही है.

दरअसल मोबाइल के प्रयोग के दौरान लोग अपने सिर को आगे पीछे की तरफ हिलाया करते हैं. ऐसे में गर्दन के निचले हिस्से की मांसपेशियों में खिंचाव आने लगता है. इस कारण कुछ दिन बाद हड्डियां बाहर की तरफ निकल जाती हैं. डॉ के अनुसार सिर पर ज्यादा दबाव पड़ने के कारण सींग जैसी दिखने वाली हड्डियां निकल रही हैं.

पुरुष हैं ज्यादा प्रभावित

आपको बता दें कि इस रिसर्च में शामिल शोधकर्ताओं का पहला पेपर जर्नल ऑफ एनाटॉमी में साल 2016 में छपा था. जी हां, दरअसल इस पेपर में 18 से 30 वर्ष आयु वर्ग के 216 लोगों के एक्स-रे को शामिल किया गया था, जिसमें 41% वयस्कों के सिर की हड्डी में वृद्धि देखी गई. इसके साथ ही ये भी पता चला कि इससे ज्यादा प्रभावित पुरुष हैं.

मोबाइल की तरह दूसरी डिवाइस भी है खतरनाक

मालूम हो कि सिर्फ मोबाइल ही नहीं शोधकर्ता यह भी मानते हैं कि स्मार्टफोन की तरह के दूसरी डिवाइस भी इसी तरह का असर दे रहे हैं. दरअसल ये सभी इंसान के स्वरूप को बदल रहे हैं. शोधकर्ताओं के अनुसार टेक्नोलॉजी का मानव शरीर पर पड़ने वाले प्रतिकूल प्रभाव का ये अपने तरह का पहला रिसर्च है.

आपको बता दें कि साल 2018 में दूसरे पेपर में 4 टीनएजर्स की केस स्टडी को सामने रखा गया था जिनके सिर पर सींग आए थे. दरअसल इन्हें शोधकर्ताओं ने आनुवांशिक मानने से इंकार कर दिया था.

तो ऐसे में अगर आप नहीं चाहते, कि आपके सिर पर सींग निकलें तो मोबाइल और लेपटॉप जैसी डिवाइस का इस्तेमाल कम से कम करें. इसमें आप ही का फायदा है.

भारत में स्मार्टफोन का इस्तेमाल है कुछ यूं

आपको बता दें कि एक आंकड़े के अनुसार भारत में स्मार्टफोन इस्तेमाल करने वालों की संख्या करीब 35 करोड़ है.

वहीं साल 2024 तक स्मार्टफोन यूजर्स की संख्या 110 करोड़ हो जाएगी.

इसके अलावा पूरे विश्व में भारत में सबसे ज्यादा प्रति व्यक्ति इंटरनेट डाटा का इस्तेमाल होता है.

जी हां, दरअसल यहां एक आदमी हर महीने 9.8 जीबी इंटरनेट डाटा का इस्तेमाल करता है.

इसके अलावा यूनिवर्सिटी के छात्र रोजाना करीब 150 बार अपना मोबाइल फोन देखते हैं.

बता दें कि देश में हर व्यक्ति रोजना 3-4 घंटे मोबाइल फोन का इस्तेमाल करता है।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.