Loading...

फिर चला मोदी मैजिक, UAE से भारत आएगा तेल, जानिए आप पर क्या होगा असर

0 21

अमेरिका के द्वारा ईरान पर प्रतिबंध लगाने से भारत की चिंताएं बढ़ गई हैं हालांकि संयुक्त अरब अमीरात यानी कि यूएई ने यह आश्वस्त किया है कि ईरान पर अमेरिका की ओर से प्रतिबंध लगाये जाने के बाद वह भारत के लिए तेल आपूर्ति में आई किसी तरह की कमी को पूरा करेगा.

जी हां, दरअसल भारत में संयुक्त अरब अमीरात के राजूदत अहमद अल बन्ना ने सोमवार को इस बात की जानकारी दी. दरअसल इससे भारत में तेल की कमी नहीं होगी जिससे पेट्रोल-डीजल के दाम भी नहीं बढ़ेंगे.

इसके अलावा भारत ने होर्मुज के जलडमरूमध्य की घटनाओं पर भी चिंता जाहिर की है. दरअसल इसकी वजह से तेल की कीमतों में इजाफा हो रहा है एवं उसने तेल की कीमतों को काबू में रखने के लिए ओपेक समूह के प्रमुख देश सऊदी अरब से सक्रिय भूमिका अदा करने को कहा है.

आपको बता दें कि बन्ना ने कहा, ‘संयुक्त अरब अमीरात ने आश्वस्त किया है कि वह (ईरान पर अमेरिका के प्रतिबंध) स्थिति के कारण तेल की होने वाली किसी भी तरह की कमी को पूरा करेगा. ऐसा पूर्व में किया जा चुका है और हम भारत सरकार को फिर से इस बात को लेकर आश्वस्त करते हैं.’

Loading...

आपको याद दिला दें कि अमेरिका द्वारा दी गयी छूट समाप्त होने के बाद भारत ने इस साल मई में ईरान से तेल का आयात रोक दिया था. जी हां, दरअसल इसके अलावा अल बन्ना ने कहा कि भारत और संयुक्त अरब अमीरात दोनों देशों के बीच उड़ानों की संख्या में वृद्धि को लेकर अगले कुछ महीनों में बैठक करेंगे.

आर्थिक संकट मार झेल रहे पाकिस्तान को मिला कतर का सहारा, दिए 3 अरब डॉलर

आपको बता दें कि नकदी संकट की मार झेल रहे पाकिस्तान को तेल के धनी कतर से 3 अरब डॉलर का बेलआउट पैकेज मिला है. जी हां, दरअसल कतर के शासक अमीर शेख तमीम बिन हमाद ने एक दिन पहले ही पाकिस्तान की यात्रा पूरी की है. मालूम हो कि उन्होंने पाकिस्तान के साथ व्यापार, धन शोधन रोधक और आतंकवाद के वित्तपोषण को रोकने में सहयोग का भरोसा दिलाया है.

दरअसल कतर चौथा ऐसा देश है जो पिछले 11 महीने में पाकिस्तान की मदद को आगे आया है. जी हां, मालूम हो कि पाकिस्तान इस समय भुगतान संकट से जूझ रहा है. बता दें कि पाकिस्तान की इमरान खान की अगुवाई वाली सरकार दिन प्रतिदिन बढ़ते भुगतान संतुलन संकट से बाहर निकलने का प्रयास कर रही है.

बता दें कि इससे पहले चीन ने पाकिस्तान को जमा और वाणिज्यिक कर्ज के रूप में 4.6 अरब डॉलर दिए थे. मालूम हो कि सऊदी अरब ने पाकिस्तान को 3 अरब डॉलर की नकदी और बाद में भुगतान पर 3.2 अरब डॉलर की तेल सुविधा उपलब्ध कराई थी. वहीं संयुक्त अरब अमीरात ने भी पाकिस्तान को 2 अरब डॉलर नकद की मदद दी थी.

मालूम हो कि कतर की ओर से पाकिस्तान को वित्तीय मदद की घोषणा उसके विदेश मंत्री शेख मोहम्मद बिन अब्दुलरहमान अल थानी ने की है. दरअसल पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के वित्तीय सलाहकार डॉ अब्दुल हफीज शेख ने ट्वीट कर कतर से वित्तीय मदद मिलने की पुष्टि की.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.