Loading...

महाराष्ट्र सरकार ने लिया बड़ा फैसला, सूखा प्रभावित इलाकों से आने वाले छात्रों की फीस होगी वापस

0 21

हर बार मानसून के पहले महाराष्ट्र में सूखे की परिस्थितियां बन जाती हैं. इस बार भी कुछ ऐसा ही हो रहा है. जी हां, दरअसल महाराष्ट्र का एक बड़ा हिस्सा सूखे से जूझ रहा है. किसानों की फसल चौपट हो गई है और लोग पीने के पानी के लिए ही बड़ा संघर्ष कर रहे हैं.

आपको बता दें कि सूखे के कारण लोगों के सामने आर्थिक संकट खड़ा हो गया है. ऐसे में महाराष्ट्र सरकार ने सूखा प्रभावित इलाकों के छात्रों की फीस माफ करने का फैसला लिया है.

जी हां, दरअसल महाराष्ट्र के शिक्षा मंत्री आशीष शेलार ने कहा कि सरकार सूखा प्रभावित इलाकों से आने वाले छात्रों की फीस सीधा उनके बैंक खातों में डालने की मजबूत प्रणाली तैयार करेगा.

दरअसल प्रश्न काल के दौरान विधानसभा में शेलार ने कहा कि छात्रों के गांव के नाम और राजस्व संहिता के साथ ही उनकी बैंक खातों की जानकारी ली जाएगी और जहां भी सूखा घोषित किया जाएगा वहां छात्रों की फीस सीधे उनके खातों में भेज दी जाएगी. इसके अलावा उन्होंने यह भी कहा कि फीस के अतिरिक्त लिखित परीक्षाओं के शुल्क, प्रायोगिक परीक्षाओं के शुल्क भी माफ कर दिए जाएंगे.

Loading...

बता दें कि सदन में उठाए गए एक अन्य प्रश्न पर खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति राज्य मंत्री मदन यरवार ने कहा कि पुणे जिले के लोनावाला हिल स्टेशन में लोकप्रिय ‘मगनलाल चिक्की’ (एक मीठा नाश्ता) दिसंबर 2018 में नियमित जांच के दौरान घटिया गुणवत्ता की पाई गई थी. दरअसल इसके बाद उस पर जुर्माना लगाकर उत्पादन करने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.