Loading...

अगर आपको भी नहीं मिल पाया है PM किसान सम्मान निधि स्कीम का पैसा, तो ये है इसका समाधान

0 24

अगर आप या आपका कोई जानकार जो किसान है और उसको प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि स्कीम का पैसा नहीं मिल रहा है तो बता दें कि चिंता की कोई बात नहीं. जी हां, दरअसल इसका एक आसान सा समाधान है. जी हां, दरअसल इसके लिए आप सीधे केंद्रीय कृषि मंत्रालय में शिकायत कर सकते हैं.

मालूम हो कि यह मोदी सरकार की किसानों से जुड़ी सबसे बड़ी योजना है और सरकार की कोशिश है कि हर असली किसान को इसका लाभ मिले ताकि खेती-किसानी में संकट का दौर खत्म हो.

बता दें कि देश के 3.94 करोड़ किसानों को इसकी दो किस्त का पैसा पहुंच चुका है, लेकिन यदि आप उनमें नहीं हैं तो सबसे पहले अपने रेवेन्यू अधिकारी (यानी कि लेखपाल) और कृषि अधिकारी से संपर्क करें.

वहां बात नहीं बन रही है तो सोमवार से शुक्रवार तक पीएम-किसान हेल्प डेस्क (PM-KISAN Help Desk) के ई-मेल Email (pmkisan-ict@gov.in) पर संपर्क कर सकते हैं. नहीं तो इस सेल के फोन नंबर 011-23381092 (Direct HelpLine) पर फोन करें।

Loading...

दरअसल शिकायत ये भी आ रही है कि रजिस्टर्ड किसानों को भी पैसा नहीं मिल रहा. एक ही गांव में कुछ किसानों के अकाउंट में 2 बार दो-दो हजार रुपये आ गए हैं, लेकिन कुछ किसान ऐसे भी हैं जिनके अकाउंट में पहली किस्त भी नहीं पहुंची.

इसके अलावा कुछ लोगों के खाते में पहली किस्त आ गई है तो दूसरी नहीं मिली. ऐसे लोग सबसे पहले अपने लेखपाल और कृषि अधिकारी से पूछें कि उनका नाम लाभार्थियों की सूची में है या नहीं.

अगर है तो उनसे पूछें कि पैसा क्यों नहीं आया. जवाब न मिले तो फिर स्कीम की हेल्पलाइन पर संपर्क करें. बता दें कि सरकार तो देश के सभी 14.5 करोड़ किसानों को पैसा देना चाहते हैं. सरकार की इस मंशा को पूरा करने में यदि कोई अधिकारी बाधा बन रहा है तो उसकी कंप्लेंट करें.

बता दें कि यही नहीं इस योजना के वेलफेयर सेक्शन में भी आप संपर्क कर सकते हैं. जी हां, दिल्ली में इसका फोन नंबर है 011-23382401, जबकि ई-मेल आईडी (pmkisan-hqrs@gov.in) है. मालूम हो कि केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी का कहना है कि अगर किसी असली किसान भाई के बैंक अकाउंट में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि स्कीम का पैसा नहीं पहुंच रहा है तो इसका समाधान करवाया जाएगा.

दरअसल चौधरी के अनुसार अगर किसान के खाते में पैसा पहुंचा नहीं है या फिर कोई टेक्निकल दिक्कत है तो उसे हर हाल में ठीक करवाई जाएगी. दरअसल हमारी कोशिश है कि इसका हर किसान को लाभ मिले, इसीलिए सरकार ने अपनी पहली कैबिनेट बैठक में ही वादे के मुताबिक इस योजना का विस्तार कर दिया है.

आपको बता दें कि इस स्कीम के तहत सबसे ज्यादा 1,20,23,174 किसानों को फायदा उत्तरप्रदेश में मिला है. वहीं, महाराष्ट्र के 31,56,298 किसानों को लाभ मिला है. इसके अलावा बिहार में 6,46,159, राजस्थान के 28,20,441 और गुजरात के 29,74,520 किसान इस स्कीम का लाभ उठा चुके हैं.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.