Loading...

फ्लिपकार्ट ने छोटे व्यापारियों को दिया ये शानदार ऑफर, 2 दिन के अंदर ही मिल जाएगा 3 करोड़ तक का लोन

0 35

ई-कॉमर्स की बड़ी कंपनी की सूची में अपनी अलग पहचान रखने वाली फ्लिपकार्ट ने सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम ( एमएसएमई) कारोबारियों को सशक्त बनाने के उद्देश्य से शुरू किए गए अपने अभियान ‘ग्रोथ कैपिटल’ को नया रूप दिया है।

बता दें कि इसके तहत अब छोटे कारोबारी अपना व्यापार बढ़ाने के लिए फ्लिपकार्ट के माध्यम से 3 करोड़ रुपए तक का लोन ले सकेंगे। दरअसल इससे फायदा यह होगा कि अब व्यापारियों को लोन लेने के लिए बैंकों के चक्कर नहीं लगाने होंगे।

1 लाख से अधिक व्यापारी होंगे लाभार्थी

आपको बता दें कि कंपनी की ओर से जारी किए गए एक बयान के अनुसार इस अभियान में किए गए परिवर्तन से प्लेटफॉर्म के 1 लाख से अधिक विक्रेता 10 एनबीएफसी और बैंकों से प्रतिस्पर्धी ब्याज दरों पर ऋण प्राप्त कर सकेंगे। अब 1 दिन के अनुमोदन समय और 48 घंटों के अंदर विक्रेताओं के बैंक खातों में धन राशि हस्तांतरित कर दी जाएगी।

Loading...

दरअसल उसने कहा कि ग्रोथ कैपिटल में न्यूनतम कागजी कार्रवाई की आवश्यकता होती है। मालूम हो कि कंपनी ने बताया कि औसत ऋण की राशि 7 लाख रुपए तक है, लेकिन विक्रेता 9.5 प्रतिशत ब्याज पर 3 करोड़ रुपए तक का ऋण ले सकते हैं।

इन बैंकों और एनबीएफसी से किया समझौता

जानकारी के लिए बता दें कि फ्लिपकार्ट ने अपने प्लेटफॉर्म के विक्रेताओं को शीघ्र लोन दिलाने के लिए कई बैंकों और नॉन बैंकिंग फाइनेंस कंपनियों (यानी कि एनबीएफसी) के साथ समझौता किया है।

बता दें कि इसमें भारतीय स्टेट बैंक , बैंक ऑफ बड़ौदा, एक्सिस बैंक, आदित्य बिड़ला फाइनेंस, टाटा कैपिटल, फ्लेक्सिलोंस, स्मॉल इंडस्ट्रीज डेवलपमेंट बैंक ऑफ इंडिया, लेंडिंगकार्ट, इंडिफी और हैप्पी लोन शामिल हैं।

फ्लिपकार्ट ग्रुप के पास हैं 15 करोड़ से ज्यादा ग्राहक

आपको बता दें कि फ्लिपकार्ट ग्रुप फ्लिपकार्ट, मिंत्रा, जाबोंग और फोनपे जैसे प्लेटफॉर्म का संचालन करता है। दरअसल फ्लिपकार्ट के पास देशभर में लाखों ग्राहक, सेलर, मर्चेंट और छोटे कारोबारियों का बड़ा नेटवर्क है। मालूम हो कि फ्लिपकार्ट ग्रुप के सभी प्लेटफॉर्म के पास 15 करोड़ से ज्यादा रजिस्टर्ड ग्राहक हैं। बता दें कि यह सभी ग्रुप प्लेटफॉर्म 80 से ज्यादा वर्गों में 8 करोड़ से ज्यादा उत्पाद उपलब्ध कराते हैं।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.