Loading...

2 करोड़ किसानों को 2019 में मिलेगा प्रधानमंत्री किसान योजना का लाभ, पिछले साल 12.5 करोड़ किसानों ने उठाया था लाभ

0 32

केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने जब से दूसरा कार्यभार संभाला है तभी से ये लग रहा है कि इस बार सरकार का मुख्य फोकस किसानों पर है। यही कारण था कि सत्ता संभालने के पश्चात प्रधानमंत्री किसान योजना का लाभ सभी किसानों को देकर नरेंद्र मोदी सरकार ने अपना चुनावी वायदा पूरा किया है।

आपको बता दें कि पीएम किसान योजना के तहत गरीब किसानों को सालाना 6 हजार रुपए उनके बैंक खातों में डालने का प्रावधान है। दरअसल इस योजना के चलते इस साल यानी 2019 में पिछले साल के मुकाबले 2 करोड़ ज्यादा किसानों को इसका लाभ मिलेगा।

जी हां, मालूम हो कि साल 2018 में इस योजना का लाभ 12.5 करोड़ लोगों को मिल रहा था, जबिक इस साल इस योजना का लाभ उठाने वाले किसानों की संख्या 14.5 करोड़ हो जाएगी। यानी कि पिछले साल के मुकाबले इस योजना का लाभ उठाने वाले किसानों की संख्या में 16% की बढ़ोतरी होगी। हालांकि इसका असर राजस्व पर भी होगा और उस पर सालाना 87,000 करोड़ रु. का बोझ पड़ेगा।

बीजेपी ने घोषणापत्र में किया था वादा

Loading...

आपको याद दिला दें कि बीजेपी ने लोकसभा चुनाव के अपने घोषणापत्र में यह वादा किया था कि प्रधानमंत्री किसान योजना का लाभ जमीन के आकार पर ध्यान दिए बगैर सभी पात्र किसान परिवारों को दिया जाएगा। जी हां, दरअसल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 10 अप्रैल को पटना की चुनावी सभा में इसकी घोषणा की थी। उन्होंने कहा था, ”हमारी सरकार बनने के बाद इस योजना के तहत लाभ उठाने के लिए अधिकतम 5 एकड़ यानी कि 2 हेक्टेयर जमीन की बाध्यता को खत्म कर दिया जाएगा।”

2 हेक्टेयर तक जमीन वाले करीब 12 करोड़ किसानों को इस योजना का मिलना था लाभ

आपको बता दें कि प्रधानमंत्री किसान योजना की घोषणा फरवरी, 2019 को पेश अंतरिम बजट में की गई थी और शुरुआती तौर पर 2 हेक्टेयर तक जमीन वाले करीब 12 करोड़ किसानों को इस योजना का लाभ मिलना था। इस योजना के ही काउंटर में कांग्रेस न्याय योजना लेकर आई थी। न्याय योजना के तहत कांग्रेस ने देश के 20% गरीबों को सालाना 72,000 रुपए की निश्चित आय का वादा किया था। हालांकि देश की जनता ने कांग्रेस की न्याय योजना के संग न्याय न करते हुए बीजेपी की प्रधानमंत्री किसान योजना पर ज्यादा भरोसा जताया।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.