Loading...

मोदी सरकार की योजना, देश के 11 करोड़ नए युवाओं को बिना गारंटी के मिलेगा मुद्रा योजना में कर्ज

0 46

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने गुरुवार को संसद के सयुंक्त सत्र को संबोधित किया था। इस दौरान उन्होंने मोदी सरकार के एजेंडे को देश के समक्ष प्रस्तुत किया था। बता दें कि राष्ट्रपति ने संसद के संयुक्त सत्र को संबोधित करते हुए एक और अहम ऐलान भी किया है।

जी हां, दरअसल उन्होंने अपनी सरकार की उपलब्धियों का ब्यौरा पेश करते हुए कहा कि ‘प्रधानमंत्री मुद्रा योजना’ के तहत अब तक 19 करोड़ युवाओं को कर्ज दिया जा चुका है। अब सरकार का लक्ष्य योजना का विस्तार करते हुए 30 करोड़ युवाओं तक पहुंचने का है।

दरअसल इसका मतलब यह है कि 11 करोड़ नए युवाओं को इस योजना के तहत कर्ज दिया जाएगा। सिर्फ इतना ही नहीं, उद्यमियों के लिए बिना गारंटी 50 लाख रुपए तक के ऋण की योजना भी लाई जाएगी।

अभी 3 श्रेणी में मिलता है लोन

Loading...

आपको याद दिला दें कि अभी वर्तमान समय में पीएमएमवाई के तहत तीन योजनाएं हैं – शिशु, किशोर और तरुण योजना। दरअसल इसमें बैंक और वित्तीय संस्थान इन योजनाओं के तहत 50,000 रुपये से 10 लाख रुपये तक के ऋण प्रदान करते हैं। बता दें कि शिशु में 50000, किशाेर में 500000 और तरुण में 10 लाख रुपए की सीमा है।

51 % लोन सिर्फ शिशु योजना के तहत बांटे

आपको बता दें कि चालू वित्त वर्ष में सरकार ने इन योजनाओं के तहत लगभग 600,000 ऋण आवेदन स्वीकृत किए हैं, जिसमें 32,457 करोड़ रुपए की कर्ज राशि बांटी गई है। जी हां, दरअसल गारंटी के लिए माइक्रो यूनिट्स (CGFMU) के तहत एक क्रेडिट गारंटी फंड स्थापित किया गया है।

मालूम हो कि मार्च 2018 तक लगभग 40,000 करोड़ रुपए के ऋण क्रेडिट गारंटी योजना के तहत कवर किए गए थे। बता दें कि इन कवर किए गए ऋणों में से लगभग 51% शिशु योजना के तहत थे। यहां आपको बता दें कि गारंटी योजना के तहत 50 सदस्यीय ऋण देने वाले संस्थानों को पंजीकृत किया गया है।

राजन ने बोला था कि स्कीम की समीक्षा होने की है आवश्यकता

आपको याद दिला दें कि पिछले साल भारतीय रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने कहा था कि क्रेडिट जोखिम के लिए MUDRA ऋण और किसान क्रेडिट कार्ड की अधिक बारीकी से जांच की जानी चाहिए। उन्होंने बोला था कि सिडबी ( यानी कि लघु उद्योग विकास बैंक ऑफ इंडिया) द्वारा चलाई जा रही एमएसएमई (CGTMSE) के लिए क्रेडिट गारंटी योजना एक बढ़ती देयता है। इसे तत्कालता के साथ जांचने की आवश्यकता है।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.