Loading...

इन 5 अंको को आप हमेशा रखें याद, बस एक क्लिक से जान लेंगे अपने मोबाइल का IMEI नंबर

0 30

ये तो हम सब जानते हैं कि आज मोबाइल फोन हमारे जीवन का अभिन्न अंग बन चुका है। इसके बिना तो हम कुछ भी नहीं कर सकते। दरअसल आज के दौर में मोबाइल फोन की मदद से हम आज रेल, बस, हवाई जहाज के टिकट की बुकिंग, किसी भी सामान की खरीदारी और उनका भुगतान समेत कई प्रकार के कार्य करते हैं।

आपको बता दें कि टेलीकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया यानी कि ट्राई के आंकड़ों के अनुसार, मार्च 2019 तक देश में करीब 116 करोड़ सक्रिय मोबाइल यूजर हैं। लेकिन इनमें से अधिकांश यूजर अपने मोबाइल फोन के इंटरनेशनल मोबाइल इक्विपमेंट आइडेंटिटी (आईएमईआई) नंबर के बारे में नहीं जानते हैं।

यही कारण है कि अब दूरसंचार मंत्रालय ने मोबाइल चोरी पर लगाम लगाने और चोरी हुए मोबाइल्स को पकड़ने के लिए सेंट्रल इक्विपमेंट आइडेंटिटी रजिस्टर (सीईआईआर) प्रोजेक्ट शुरू करने की बात कही है।

मालूम हो कि इस प्रोजेक्ट के तहत देश में संचालित सभी मोबाइल्स के आईएमईआई नंबर का एक डाटाबेस बनाया जाएगा। दरअसल इसकी मदद से चोरी हुए मोबाइल के आईएमईआई नंबर को तुरंत ब्लैकलिस्ट कर दिया जाएगा। चलिए आज हम आपको बताते हैं कि आईएमईए नंबर क्या होता है और इसके बारे में कैसे जान सकते हैं..

Loading...

आखिर क्या होता है आईएमईआई नंबर

आपको बता दें कि इंटरनेशनल मोबाइल इक्विपमेंट आइडेंटिटी यानी आईएमईआई नंबर एक यूनीक आइडेंटिफिकेशन नंबर होता है। दरअसल यह नंबर 15 डिजिट का होता है और यह मोबाइल का एक पहचान नंबर होता है।

मालूम हो कि यदि कोई मोबाइल सिंगल सिम होता है तो उसमें एक आईएमईआई नंबर होता है जबकि डबल सिम मोबाइल फोन में दो आईएमईआई नंबर होते हैं। आसान शब्दों में कहें तो जितने सिम का मोबाइल होता है उसके उतने ही आईएमईआई होता हैं। बता दें कि यह एक ऐसा यूनीक नंबर होता है जो पूरी दुनिया में केवल एक मोबाइल को ही दिया जाता है।

क्यों महत्वपूर्ण होता है आईएमईआई नंबर

आपको बता दें कि आईएमईआई नंबर मोबाइल का यूनीक नंबर होता है। दरअसल इस नंबर की मदद से मोबाइल की सही स्थिति के बारे में पता किया जा सकता है। मोबाइल फोन के चोरी या गुम होने पर इस 15 डिजिट के आईएमईआई नंबर की मदद से उसकी लोकेशन के बारे में जाना जा सकता है।

मालूम हो कि पुलिस और अन्य सुरक्षा एजेंसियां आईएमईआई नंबर की मदद से ही चोरी हुए मोबाइल का पता लगाती हैं। दरअसल यदि चोरी करने वाले ने मोबाइल को डिएक्टिवेट भी कर दिया है तब भी यह आईएमईआई नंबर सक्रिय रहता है और मोबाइल की लोकेशन जानी जा सकती है।

मोबाइल के डिब्बे और बिल पर लिखा होता है आईएमईआई नंबर

मालूम हो कि जब भी हम नया मोबाइल फोन खरीदते हैं तो फोन के डिब्बे पर आईएमईआई नंबर लिखा होता है।

दरअसल दुकानदार की ओर से दिए गए बिल पर भी आईएमईआई नंबर लिखा होता है। आप बिल की मदद से भी इसके बारे में जान सकते हैं।

इसके अलावा आईएमईआई नंबर फोन के पीछे या बैटरी पैक के नीचे भी लिखा होता है।

बता दें कि आईएमईआई की जानकारी के लिए मोबाइल के डिब्बे या बिल को हमेशा संभालकर रखें।

डिब्बा या बिल खो जाए तो यूं पता करें अपना आईएमईआई नंबर

ऐसा भी अक्सर देखा गया है कि मोबाइल का डिब्बा या बिल कुछ महीने बाद ही खो जाता है। इसके साथ ही मोबाइल की आईएमईआई नंबर भी गुम हो जाता है। दरअसल डिब्बा और बिल के गुम होने के बाद अधिकांश लोग अपने मोबाइल के आईएमईआई नंबर से अनजान रहते हैं।

फिर जब कभी मोबाइल चोरी हो जाता है तो मोबाइल के चोरी होने पर पुलिस आईएमईआई नंबर की मांग करती है। अब अगर आपके मोबाइल का डिब्बा या बिल खो गया है तो आप क्या करें ये समझ मे नहीं आता भी। वैसे अब आप परेशान ना हों क्योंकि इसका भी एक हल है।

जी हां, दरअसल आप अपने मोबाइल में *#06# नंबर डायल करके अपने आईएमईआई नंबर जान सकते हैं। दरअसल इस नंबर की मदद से आप किसी भी मोबाइल का आईएमईआई नंबर जान सकते हैं। बता दें कि यदि आपके मोबाइल का डिब्बा या बिल खो गया है तो इस नंबर को डायल कर आईएमईआई नंबर जान लें और इसे लिखकर किसी सुरक्षित स्थान पर रख लें।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.