Loading...

सर्कुलर अर्थव्यवस्था से आने वाले दिनों में पैदा होंगे 1.4 करोड़ रोजगार के अवसर: अमिताभ कांत

0 30

देश में सर्कुलर अर्थव्यवस्था अपनाने से अगले 5 से 7 वर्षों में 1.4 करोड़ रोजगार के अवसर सृजित होने और इसमें लाखों नए उद्यमी बनाने की क्षमता है। जी हां, ये सब दरअसल नीति आयोग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अमिताभ कांत ने सोमवार को कहा। दरअसल कांत ने उद्योग संगठन फिक्की की ओर से आयोजित एक कार्यक्रम में कहा कि सर्कुलर अर्थव्यवस्था को क्रियान्वित करने के लिए सतत विकास और संसाधनों को सही से बांटने की जरूरत है।

2050 में 130 अरब टन होगी खनिज और वस्तुओं की मांग

दरअसल उन्होंने कहा कि वर्ष 2050 तक दुनिया की आबादी के बढ़कर 9.7 अरब पर पहुंचने का अनुमान है जिसमें से 3अरब लोग मध्यमवर्गीय होंगे और यह उपभोग करने वाला सबसे बड़ा समुदाय होगा।

उनके अनुसार इसके लिए प्रति व्यक्ति 71 % अधिक संसाधन की जरूरत होगी और इसके परिणाम स्वरूप खनिज और वस्तुओं की मांग वर्ष 2014 के 50 अरब टन से बढ़कर वर्ष 2050 में 130 अरब टन हो जाएगी।

Loading...

सर्कुलर अर्थव्यवस्था को बनाना होगा राष्ट्रीय एजेंडा

दरअसल कांत ने कहा कि अगर वाहनों की लाइफ समाप्त नीति को कार्बन उत्सर्जन के मानकों को निर्धारित समय के अनुसार लागू किया जाता है और तो वर्ष 2021 तक 2.2 करोड़ वाहन सड़क से हट जाएंगे। उन्होंने बताया कि इसमें 80 % दोपहिया वाहन, 14 % कार और 3% तिपहिया एवं व्यावसायिक वाहन होंगे।

मालूम हो कि कांत के अनुसार वाहनों की लाइफ समाप्त करने की नीति से विकास के लिए बड़े पैमाने पर कारोबार बढ़ने, संपदा निर्माण और रोजगार सृजन की संभावना है। उन्होंने कहा कि सर्कुलर अर्थव्यवस्था को राष्ट्रीय एजेंडा बनाने और इसके प्रति जागरूकता लाने के लिए गैर सरकारी संगठनों को बढ़ाने देने की आवश्यकता है और वही हम करने का हर संभव प्रयास कर रहे हैं।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.