Loading...

अब पेड़-पौधों से तैयार किया जाएगा मीट, 2024 से बाजार में मिलना हो जाएगा शुरू

0 35

अगर आप भी उनमें से हैं जिन्हें मीट खाना बेहद पसंद है तो आपको बता दें कि आने वाले कुछ सालों में झटका लग सकता है। जी हां, दरअसल हाल ही में एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि आने वाले 20 सालों में यानी कि वर्ष 2040 तक लोगों को जानवरों का मीट मिलना पूरी तरह से तो नहीं, लेकिन 60% तक बंद हो सकता है।

दरअसल साल 2040 तक जानवरों के मीट की जगह पेड़-पौधों से तैयार किया जाने वाला मीट ले सकता है। बता दें कि आने वाले 20 सालों में दुनिया भर में 60% से ज्यादा मीट जानवरों से नहीं बल्कि पेड़-पौधों से तैयार उत्पादों से मिलेगा।

जी हां, दरअसल इस रिपोर्ट के मुताबिक 2040 तक लोगों को 35% मीट कल्चर्ड और 25% पेड़-पौधों से तैयार मीट मिलेगा। वहीं साधारणतः मिलने वाले मीट की अपेक्षाकृत ये बेहद पौष्टिक होगा और जिससे ज्यादा नॉनवेज खाने वालों को होने वाली बीमारियों से भी छुटकारा मिलेगा।

परंपरागत मीट की तरह ही सारी खूबियां मिलेंगी

Loading...

दरअसल इस रिपोर्ट के मुताबिक पेड़-पौधों से तैयार किए जाने वाले इस मीट में वे सभी खूबियां होंगी जो सामान्य तौर पर आम मीट में होती हैं। यहां आपको बता दें कल्चर्ड मीट जानवरों को नुकसान पहुंचाए बिना उनकी कोशिकाओं से तैयार किया जाता है।

मालूम हो कि वर्तमान समय में दुनिया भर में मांस के लिए बड़े पैमाने पर जानवरों को पाला जा रहा है, जिसके चलते यह उद्योग का रूप ले चुका है, लेकिन वैज्ञानिक अध्ययन में इस बात की भी तस्दीक करते रहे हैं कि मांस उद्योग का हमारे पर्यावरण पर नुकसानदायक असर पड़ता है और इससे कार्बन उत्सर्जन में भी बढ़ोतरी होती है।

जलवायु संकट भी बढ़ रहा है

जानकारी के लिए बता दें कि पशु आहार की खेती के लिए जंगलों को भी काटा जा रहा है। दरअसल इससे जलवायु संकट भी तेजी से बढ़ रहा है। नदियां और महासागर प्रदूषित हो रहे हैं। इसकी वजह से भी कंपनियां अब पेड़-पौधों पर आधारित मीट उत्पाद तैयार करने पर ध्यान देने लगी हैं।

बता दें कि एटी केर्नी का अनुमान है कि इस तरह के शाकाहारी उत्पादों में एक बिलियन डॉलर का निवेश किया गया है। इसमें पारंपरिक मीट मार्केट पर हावी कंपनियां भी शामिल हैं। मालूम हो कि कई कंपनियां जानवरों को बिना मारे या नुकसान पहुंचाए उनके कोशिकाओं से मांस तैयार करने में जुटी हैं।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.