Loading...

अब एटीएम में कैश की किल्लत आपको नहीं कर सकेगी परेशान, बदल गया एटीएम से जुड़ा ये खास नियम

0 30

ऐसा हो सकता है कि अब आप अगली बार जब एटीएम (ATM) पैसा निकालने जाएंगे तो वहां नो कैश का बोर्ड आपको नहीं देखने को मिलेगा. जी हां, दरअसल ऐसा इसलिए क्योंकि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने ATM में कैश की किल्लत को देखते हुए बैंकों को कड़े निर्देश जारी किए हैं.

जानकारी के लिए बता दें कि RBI का कहना है कि अगर अब किसी एटीएम में 3 घंटे से ज्यादा कैश नहीं रहेगा तो बैंक पर जुर्माना लगाया जाएगा. वहीं ATM की सुरक्षा को बढ़ाने के लिए भी RBI ने कदम उठाए हैं. RBI ने सभी बैंकों से कहा कि वे यह सुनिश्चित करें कि उनके ATM दीवार या जमीन से लगे हुए हों. इसे सितंबर 2019 के अंत तक हर हाल में सभी बैंकों को पूरा करना है.

ATM में लगा सेंसर बताता है कितना कैश है बाकी

मालूम हो कि बैंकों के पास ATM में कितना कैश है उसकी जानकारी के लिए पूरा सिस्टम मौजूद है. जी हां, दरअसल, ATM में जो सेंसर लगा होता है उसके जरिए बैंकों को रियल टाइम बेसिस पर ATM में कितना कैश बचा है, कब तक खाली होने जा रहा है और कितनी रकम डालनी है, इसकी पूरी जानकारी रहती है.

Loading...

दरअसल RBI का कहना है कि जब बैंकों को ATM में कैश के बारे में सारी जानकारी पता है, तो बैंक ATM में कैश ना डालने को लेकर बहानेबाजी क्यों कर रहे हैं.

नकदी डालने के लिए होगा ओटीसी लॉक

आपको बता दें कि सुरक्षा उपायों के तहत यह तय किया गया है कि नकदी डालने के लिए ATM का परिचालन सिर्फ डिजिटल वन टाइम कम्बिनेशन यानी कि OTC लॉक के जरिये किया जाएगा. यही नहीं इसके अलावा आगामी 30 सितंबर, 2019 तक सभी ATM किसी ढांचे मसलन दीवार, जमीन या खंभे से जुड़े होने चाहिए.

NEFT और RTGS चार्जेज हटा दी गई थी राहत

दरअसल कुछ दिनों पहले रिजर्व बैंक ने डिजिटल ट्रांजैक्शन को बढ़ावा देने के लिए RTGS और NEFT के जरिए फंड ट्रांसफर पर से चार्ज हटा दिया था. बता दें कि RBI ने बेंकों से भी कहा कि वे इसका फायदा तुरंत अपने कस्टमर्स को दें. दरअसल अब ऐसा माना जा रहा है कि अब बैंक भी अपने ग्राहकों के लिए RTGS और NEFT के जरिए फंड ट्रांसफर पर चार्ज हटा या कम कर सकते हैं.

बता दें कि इसके अलावा आरबीआई ने एटीएम के प्रयोग पर बैंकों द्वारा लिए जा रहे शुल्क का रिव्यू करने के लिए एक समिति का गठन भी किया है. मालूम हो कि इस समिति को अपनी पहली बैठक के 2 महीने के अंदर रिपोर्ट सबमिट करनी है.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.