Loading...

आप कब और किस स्थिति में निकाल सकते हैं EPFO का पूरा पैसा, जानिए क्या कहता है नियम

0 26

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन यानी कि ईपीएफओ की भविष्य निधि जमा की निकासी के लिए ऑनलाइन सुविधा मौजूद है. जी हां, बता दें कि ऑनलाइन सुविधा का लाभ 5 करोड़ से अधिक अंशधारकों को मिल रहा है.

मालूम हो कि एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक, ऐप्लिकेशन फाइल करने के बाद पीएफ ट्रांसफर से लेकर पीएफ का पैसा निकालने की सारी प्रक्रिया 3 दिनों में पूरी हो जाती है. अधिकारी के अनुसार ऐसे सभी अंशधारक, जिनका पीएफ व बैंक खाता आधार नंबर से जुड़ा है, इस सुविधा का लाभ उठा सकते हैं.

आज हम आपको बताएंगे कि किन परिस्थितियों में पीएफ का पूरा सेटलमेंट होता है या किन स्थिति में आप पीएफ की पूरी राशि निकाल सकते हैं. जानिए क्या कहता है EPFO का नियम..

कितने साल बाद और कब निकाल सकते हैं PF का पूरा पैसा

Loading...

जानकारी के लिए बता दें कि पीएफ की राशि को एमरजेंसी की स्थिति में निकाला जा सकता है. जी हां, दरअसल 7 परिस्थितियों में आप पीएफ की राशि को निकाल सकते हैं. बता दें कि कुछ परिस्थितियों में आप पीएफ का पूरा हिस्सा निकाल सकते हैं और कुछ में पीएफ के कुल पैसे का एक निश्चित हिस्सा ही निकाला जा सकता है. चलिए जानते हैं कौन सी हैं ये 7 परिस्थितियां, जिनमें पीएफ की राशि को निकाला जा सकता है..

1- मेडिकल ट्रीटमेंट

मालूम हो कि आप अपने, पत्‍नी के, बच्‍चों के या फिर माता-पिता के इलाज के लिए भी पीएफ विद्ड्रॉ कर सकते हैं.

जी हां, दरअसल इस स्थिति में आप कभी भी पीएफ विद्ड्रॉ कर सकते हैं यानी ये आवश्‍यक नहीं है कि आपकी सर्विस कितने समय की हुई है.

हालांकि इसके लिए एक महीने या उससे अधिक तक अस्पताल में भर्ती होने का सबूत देना होता है.

बता दें कि इसके साथ ही इस समय के लिए इंप्लॉयर के द्वारा अप्रूव लीव सर्टिफिकेट भी देना होता है.

बता दें कि पीएफ के पैसों से मेडिकल ट्रीटमेंट लेने के लिए व्यक्ति को अपने इंप्लॉयर या फिर ईएसआई के द्वारा अप्रूव एक सर्टिफिकेट भी देना होता है. दरअसल इस सर्टिफिकेट में यह घोषणा की गई होती है कि जिसे मेडिकल ट्रीटमेंट चाहिए, उस तक ईएसआई की सुविधा नहीं पहुंचाई जा सकती या फिर उसे ईएसआई की सुविधा नहीं दी जाती है.

मालूम हो कि इसके तहत पीएफ का पैसा निकालने के लिए फॉर्म 31 के तहत आवेदन करने के साथ-साथ बीमारी का सर्टिफिकेट या की अन्य ऐसा डॉक्युमेंट देना होता है, जिससे सत्यता की जांच की जा सके.

बता दें कि इस मेडिकल ट्रीटमेंट के लिए कोई भी व्यक्ति अपनी सैलरी का 6 गुना या फिर पूरा पीएफ का पैसा, जो भी कम हो, निकाल सकता है.

2- एजुकेशन/ शादी

आपको बता दें कि अपनी या भाई-बहन की या फिर अपने बच्‍चों की शादी के लिए पीएफ की राशि को निकाला जा सकता है.

इसके अलावा आप अपनी पढ़ाई या फिर बच्‍चों की पढ़ाई के लिए भी पीएफ की राशि को निकाल सकते हैं.

मालूम हो कि इसके लिए कम से कम 7 साल की नौकरी हो जानी चाहिए.

बता दें कि एजुकेशन के मामले में आपको अपने एम्प्लायर के द्वारा फॉर्म 31 के तहत आवेदन करना होता है. दरअसल आप पीएफ निकालने की तारीख तक कुल जमा का 50 % पीएफ ही निकाल सकते हैं.

मालूम हो कि एजुकेशन के लिए पीएफ का इस्तेमाल कोई भी व्यक्ति अपने पूरे सेवाकाल में सिर्फ तीन बार कर सकता है.

3- प्‍लॉट खरीदने के लिए

आपको बता दें कि आप प्लॉट खरीदने के लिए पीएफ का पैसा इस्तेमाल कर सकते हैं. ऐसा करने के लिए आपका कार्यकाल 5 साल पूरा होना चाहिए.

बता दें कि ये प्‍लॉट आपके, आपकी पत्‍नी के या दोनों के नाम पर रजिस्‍टर्ड होना चाहिए.

इसके अलावा कोई प्लॉट या प्रॉपर्टी किसी प्रकार के विवाद में फंसी नहीं होनी चाहिए और न ही उस पर कोई कानूनी कार्रवाई चल रही होनी चाहिए.

बता दें कि प्लॉट खरीदने के लिए कोई भी व्यक्ति अपनी सैलरी का अधिकतम 24 गुना तक पीएफ का पैसा निकाल सकता है.

4- घर बनाने या फ्लैट के लिए

आपको बता दें कि इस तरह की स्थिति में आपकी नौकरी के 5 साल पूरा होना अत्यंत आवश्‍यक है. दरअसल इसके तहत कोई भी व्यक्ति अपनी सैलरी का अधिकतम 36 गुना तक पीएफ का पैसा निकाल सकता है. मालूम कि इसके लिए अपनी नौकरी के समय के दौरान सिर्फ एक बार ही पीएफ के पैसों का इस्तेमाल किया जा सकता है.

5- रि-पेमेंट ऑफ होम लोन

मालूम हो कि इसके लिए आपकी नौकरी के 10 साल होना चाहिए. जी हां, दरअसल इसके तहत कोई भी व्यक्ति अपनी सैलरी का अधिकतम 36 गुना तक पीएफ का पैसा निकाल सकता है. आपको बता दें कि इसके लिए अपनी नौकरी के समय के दौरान सिर्फ एक बार ही पीएफ के पैसों का इस्तेमाल किया जा सकता है.

6- हाउस रिनोवेशन

बता दें कि इस स्थिति में आपके नौकरी के कम से कम 5 साल पूरे होने चाहिए. जी हां, दरअसल इसके तहत कोई भी व्यक्ति अपनी सैलरी का अधिकतम 12 गुना तक पीएफ का पैसा निकाल सकता है. बता दें कि इसके लिए अपनी नौकरी के सयम के दौरान सिर्फ एक बार ही पीएफ के पैसों का इस्तेमाल किया जा सकता है.

7- प्री-रिटायरमेंट

मालूम हो कि इसके लिए आपकी उम्र 54 वर्ष होनी चाहिए. जी हां, दरअसल इस स्थिति में आप कुल पीएफ बैलेंस में से 90% तक की रकम निकल सकते हैं, हालांकि यह विद्ड्रॉ सिर्फ एक ही बार किया जा सकता है.

पीएफ विथड्रॉल टैक्‍सेबल है या नहीं

आपको बता दें कि अगर आप लगातार सर्विस के दौरान 5 साल से पहले पीएफ विद्ड्रॉ करते हैं तो यह टैक्‍सेबल होगा. जी हां, दरअसल यहां लगातार सर्विस से मतलब ये नहीं है कि एक ही संस्‍था में 5 साल तक सर्विस होना. दरअसल बआप सर्विस बदल सकते हैं और कोई भी संस्‍था ज्‍वाइन कर सकते हैं. बता दें कि आप अपने पीएफ अकांउट को नए एम्‍पलॉयर को ट्रांसफर कर सकते हैं.

पिछले पांच साल में ये है EPF का रेट

वित्त वर्ष EPF ब्याज दर PPF ब्याज दर
2014-15 8.75 % 8.7 %
2015-16 8.80 % 8.7 %
2016-17 8.65 % 8.1 %
2017-18 8.55 % 7.6 %
2018-19 8.65 % 8.0 % (30 जून
2019 तक)

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.