Loading...

जब मोहम्मद युसूफ और हरभजन सिंह के बीच छुरी-कांटे से हुई थी भयानक लड़ाई, जानिए पूरा किस्सा

0 18

विश्व कप 2003 में हरभजन सिंह और मोहम्मद यूसुफ के बीच झगड़ा हुआ था। इसको लेकर हरभजन सिंह ने कहा कि जब भी मैं इसे याद करता हूं तो हंसी आ जाती है। विश्व कप 2003 में भारत और पाकिस्तान के बीच मैच खेला गया। इस मुकाबले में मोहम्मद यूसुफ ने हरभजन सिंह को लेकर कुछ कह दिया। इतना ही नहीं मोहम्मद यूसुफ ने हरभजन के धर्म को लेकर भी कुछ कहा था। इसके बाद ही दोनों खिलाड़ियों में जंग छिड़ गई। हरभजन सिंह और मोहम्मद यूसुफ हाथों में छुरी-कांटे लेकर एक दूसरे से भिड़ गए थे।

न्यूज एजेंसी पीटीआई को हरभजन सिंह ने बताया कि यह घटना 16 साल पहले सेंचुरियन में हुई थी। बात इतनी ज्यादा बढ़ गई कि वसीम अकरम, राहुल द्रविड़ और जवागल श्रीनाथ को हम दोनों को रोकने के लिए आना पड़ा। हरभजन ने बताया कि इसकी शुरुआत एक चुटकुले से हुई थी। लेकिन यह झगड़े में बदल गया। मुझे भारत की प्लेइंग इलेवन में खेलने का मौका नहीं मिला था। हालांकि अनिल भाई उस मैच में खेल रहे थे। ऐसा इसलिए क्योंकि टीम प्रबंधन को अनिल से अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद थी। उनका पाकिस्तान के विरुद्ध अच्छा रिकॉर्ड था। मुझे थोड़ी सी निराशा हुई।

आगे हरभजन ने बताया कि लंच के वक्त में टेबल पर बैठा हुआ था। जबकि मोहम्मद युसूफ और शोएब अख्तर दूसरी टेबल पर थे। हम दोनों पंजाबी बोलते हैं और एक दूसरे की खिंचाई भी करते हैं। उसी वक्त उसने निजी टिप्पणी कर दी और मेरे धर्म के बारे में भी कहा। मैंने तुरंत ही उसको इसका करारा जवाब दिया। कोई भी इस बात को समझ पाता। इससे पहले ही हम दोनों के बीच झगड़ा हो गया। हम दोनों ने अपनी कुर्सी उठा ली और एक-दूसरे पर वार करने लगे।

Loading...

हरभजन सिंह ने कहा कि हम दोनों को राहुल द्रविड़ , जवागल श्रीनाथ, वसीम भाई और सईद भाई ने रोका। भारत और पाक के सीनियर खिलाड़ी हमसे नाराज हो गए क्योंकि हमने बहुत ही गलत व्यवहार किया। जब भी मेरी युसूफ से मुलाकात होती है तो मुझे हंसी आ जाती है।

इस मुकाबले में सचिन तेंदुलकर ने 98 रन बनाए थे। पहले बल्लेबाजी करते हुए पाकिस्तान ने 275 रनों का लक्ष्य दिया था। भारतीय टीम को सचिन तेंदुलकर और वीरेंद्र सहवाग की शानदार बल्लेबाजी की वजह से जीत मिली थी।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.