Loading...

पाकिस्तान में महंगाई से टूट रही है आम आदमी की कमर, खाने तक के लिए नहीं है पैसे, लोगों का जीना हुआ बेहाल

0 40

भारत के पड़ोसी देश पाकिस्तान में हालात बद से बदतर की तरफ जा रहे हैं. जी हां, दरअसल पाकिस्तानी रुपये में जारी गिरावट थमने का नाम ही नहीं ले रही है और इसकी मार सबसे ज्यादा आम आदमी झेल रहा है. दरअसल गिरते रुपये के कारण पाकिस्तान में महंगाई बहुत बढ़ रही है.

आपको बता दें कि Pakistan Bureau of Statistics के मुताबिक वहां का कन्ज्यूमर प्राइज इंडेक्स 9 % के ऊपर बना हुआ है जिससे लोगों की खरीदने की क्षमता कम हो रही है.

वहीं, अब पाकिस्तान के सेंट्रल बैंक (स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान) ने चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर महंगाई को नहीं रोका गया तो देश के आर्थिक हालात काबू से बाहर हो जाएंगे. जानकारी के लिए आपको बता दें कि SBP ने ब्याज दरें बढ़ाकर 12.25 % कर दी है. ये कदम महंगाई को काबू करने के लिए ही उठाया गया है.

Loading...

पाकिस्तानी रुपया सबसे निचले स्तर पर

अमेरिकी डॉलर के मुकाबले पाकिस्तानी रुपये में फिर से तेज गिरावट देखने को मिल रही है. गुरुवार को पाकिस्तानी रुपया फिर से अपने अब तक के निचले स्तर पर 153.50 रुपये पर आ गया है. आपको बता दें कि पिछले महीने यानी मई में पाकिस्तान का रुपया दुनिया में सबसे बड़ी गिरावट के साथ बंद हुआ था. इससे पहले पाकिस्तान में ईद की छुट्टी के चलते पिछले हफ्ते लंबे समय तक रुपये में कारोबार बंद था.

ये भी पढ़ें-पाकिस्तान को बचाने के लिए इमरान खान ने उठाया PM मोदी की तरह सख्त कदम, दिया 30 जून तक का समय!

पाकिस्तान में है कमर तोड़ महंगाई

चूंकि पाकिस्तानी रुपये पर लगातार दबाव बना हुआ है, इस वजह से पाकिस्तान में डेली आइटम्स के दामों में बेहद ही ज्यादा बढ़ोतरी देखने को मिल रही है। जैसे प्याज के दाम 77.52 %, तरबूज 55.73 %, टमाटर 46.11 %, नींबू 43.46 % और चीनी 26.53 % मंहगी हो गई.

वहीं लहसुन 49.99 %, मूंग 33.65, आम 28.99 और मटन के दाम 12.04 % बढ गए. अन्य खाद्य पदार्थों की कीमतों में भी बढ़ोतरी हुई.

इसके अलावा ईंधन में गैस के दाम में 85.31 %, पेट्रोल 23.63 %, हाई स्पीड डीजल की कीमत में 23.86 % की तेजी आई है. बस का किराया 51.16, बिजली 8.48 और मकान किराये में 6.15 % तक की बढ़ोतरी हुई है.

पाकिस्तान में दूध के दाम 180 रुपये प्रति लीटर है. सेब 400 रुपये किलो, संतरे 360 रुपये और केले 150 रुपये दर्जन बिक रहे हैं. पाकिस्तान में मटन 1100 रुपये किलो तक पहुंच गया है.

SBP की चेतावनी

आपको बता दें कि पाकिस्‍तान में अगले वित्‍त वर्ष में महंगाई अपने चरम पर होगी. जी हां, दरअसल वहां के शीर्ष बैंक स्‍टेट बैंक ऑफ पाकिस्‍तान (एसबीपी) ने इसे लेकर चेतावनी जारी की है.

दरअसल स्‍टेट बैंक ऑफ पाकिस्‍तान द्वारा जारी यह चेतावनी इंटरनेशनल मॉनेटरी फंड यानी कि आईएमएफ की ओर से पाकिस्‍तान को मिल रहे 6 अरब डॉलर के पैकेज के दौरान जारी की गई. ऐेसे में माना जा रहा है कि इससे ब्‍याज दर अधिक हो जाएगी.

आपको बता दें कि यहां के हालात और ख़राब क्यों हुए-इस पर फ़ाइनेंशियल एक्शन टॉस्क फ़ोर्स (एफ़आईटीएफ़) ने भी मुश्किलें ही बढ़ाई हैं जो आतंकवादी और मनी लॉन्डरिंग के लिए पाकिस्तान पर लगातार दबाव बनाए हुए हैं. हालांकि यह कहना भी गलत नहीं होगा कि मसला सबसे ज़्यादा ख़राब शायद इमरान ख़ान की सियासी टीम ने ख़ुद किया.

दरअसल वर्ष 2018 के आम चुनावों में कामयाबी के बाद आईएमएफ़ से 6 अरब डॉलर का बेलआउट पैकेज लेने में 8-9 महीने की देर कर दी जिससे हालात और ज़्यादा ख़राब हुए.

अब जाहिर है कि आईएमएफ से 6 अरब डॉलर बेहद सख़्त शर्तों के साथ मिलेंगे लेकिन अर्थव्यवस्था संभलते-संभलते ही संभलेगी.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.