Loading...

अगर आप स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में कराने जा रहे हैं FD, तो एक बार इस खबर को जरूर पढ़ लें

0 34

देश की सबसे बड़ी बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया पर लोग अन्य बैंकों की अपेक्षा ज्यादा विश्वास करते हैं। जब भी बात हम अपने बचए गए पैसों की एफडी यानी की फिक्स डिपॉजिट करवाने की करते हैं तो इस बैंक के विकल्प को दरकिनार नहीं करते और यह बिल्कुल ठीक भी है। हर किसी को अपनी बचत को कहां लगाना है और कैसे खर्च करना है, इसका फैसला बहुत ही सूझबूझ से लेना चाहिए। यदि आप भी एफडी करवाना चाहते हैं तो अलग-अलग बैंकों द्वारा मिलने वाले इंट्रेस्ट रेट की जानकारी लें। इसके बाद ही तय करें कि किस बैंक में एफडी करवाना ठीक रहेगा। इतना ही नहीं आप इस बात का भी ध्यान रखें कि आप कितनी धनराशि को कितने समय के लिए जमा करवा रहे हैं। इंट्रेस्ट भी इसी बात पर निर्भर करता है। हम आपको स्टेट बैंक ऑफ इंडिया द्वारा अलग-अलग में अलग-अलग मियादों पर दिए जाने वाले इंट्रेस्ट रेट के बारे में बताने जा रहे हैं। चलिए जानते हैं।

22 फरवरी 2019 से स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने 2 करोड रुपए से कम की रकम के लिए रिवाइज्ड इंट्रेस्ट रेट अर्थात ब्याज दरें लागू कर दी है। आम लोगों के लिए एफडी बहुत लंबे समय से बेहतरीन निवेश विकल्प रहा है। इसकी सबसे मुख्य वजह है कि इसमें जोखिम बहुत कम होता है। इसको बैंकिंग सेक्टर की बोली में टर्म डिपॉजिट भी कहते हैं। फिक्स्ड डिपॉजिट के माध्यम से हम अपना पैसा निश्चित समय के लिए निश्चित ब्याज दर पर बचा सकते हैं। सामान्य बचत खाते की अपेक्षाकृत हमें इस पर ब्याज अधिक मिल जाती है। लेकिन हमें इसका टैक्स देना होता है।

स्टेट बैंक की वेबसाइट पर बताया गया है कि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के पेंशनर्स और स्टाफ को इस बाबत ऐडेड फायदा मिलता है। यदि आप बैंक के स्टाफ मेंबर है या रिटायर हो चुके हैं तो आपको फिक्स्ड डिपॉजिट में जमा की गई राशि पर एक फिसदी अधिक ब्याज मिलता है। यदि आप स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के वरिष्ठ नागरिक है तो आपको 1.5 फीसदी ज्यादा ब्याज मिलती है।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.