Loading...

किसानों को एक और बड़ा तोहफा देगी मोदी सरकार, कुसुम योजना में किया जाएगा ये अहम बदलाव

0 30

मोदी सरकार ने अपने दूसरे कार्यकाल में किसानों की आय को दुगना करने के लक्ष्य की ओर तेज़ी से बढ़ते हुए एक बड़ा कदम उठाया है. जी हां, दरअसल प्राप्त जानकारी के मुताबिक, कुसुम योजना के तहत ज्यादा से ज़्यादा किसानों को इसका फायदा मिले इसीलिए केंद्र सरकार इसमें अहम बदलाव करने जा रही है.

बता दें कि ऊर्जा मंत्रालय सोलर सेल्स और मॉड्यूल मैन्युफैक्चरर के लिए कैपिटल सब्सिडी स्कीम ला रही है. दरअसल इस स्कीम में मैन्युफैक्चरर को कुल लागत का 30 % कैपिटल सब्सिडी दी जाएगी. यहां आपको बता दें कि कुसुम योजना के तहत किसानों को खेतों में सिंचाई के लिए सोलर पंप मुहैया कराया जाएगा.

मालूम हो कि कुसुम योजना का ऐलान केंद्र सरकार के आम बजट 2018-19 में किया गया था. तब तत्कालीन वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कुसुम योजना की घोषणा की थी.

अब ये होगा

Loading...

सूत्रों के अनुसार इसको लेकर वित्त मंत्रालय ने 10 हजार करोड़ रुपये के फंड को मंजूरी दे दी है. दरअसल सोलर पंप के जरिए सिंचाई करने वाले किसानों को इसका सीधा फायदा मिलेगा. बता दें कि सोलर मॉड्यूल यूनिट के लिए 30 % तक सरकार सब्सिडी देगी.

मालूम हो कि बिजली मंत्री आरके सिंह ने हाल में कहा था कि किसानों की बेहतरी से जुड़ी कुसुम योजना इस साल जुलाई तक शुरू की जाएगी. उनके मुताबिक किसानों की आय बढ़ाने तथा सौर ऊर्जा उत्पादन में मदद मिलेगी.

कुसुम योजना से हैं 2 फायदे

मालूम हो कि केंद्र सरकार की कुसुम योजना किसानों को मुख्यतः 2 तरह से फायदा पहुंचाएगी. जी हां, एक तो उन्हें सिंचाई के लिए फ्री बिजली मिलेगी और दूसरा अगर वह अतिरिक्त बिजली बना कर ग्रिड को भेजते हैं तो उसके बदले उन्हें कमाई भी होगी. आपको बता दें कि अगर किसी किसान के पास बंजर भूमि है तो वह उसका इस्तेमाल सौर ऊर्जा उत्पादन के लिए कर सकता है. दरअसल इससे उन्हें बंजर जमीन से भी आमदनी होने लगेगी.

बिजली की होगी बचत

दरअसल सरकार का यह मानना है कि अगर देश के सभी सिंचाई पंप में सौर ऊर्जा का इस्तेमाल होने लगे तो न सिर्फ बिजली की बचत होगी बल्कि 28 हजार मेगावाट अतिरिक्त बिजली का उत्पादन भी संभव होगा. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि कुसुम योजना के अगले चरण में सरकार किसानों को उनके खेतों के ऊपर या खेतों की मेड़ पर सोलर पैनल लगा कर सौर ऊर्जा बनाने की छूट देगी. मालूम हो कि इस योजना के तहत 10,000 मेगावाट के सोलर एनर्जी प्लांट किसानों की बंजर भूमि पर लगाए जाएंगे.

कुसुम योजना की ये हैं मुख्य बातें

आपको बता दें कि सौर ऊर्जा उपकरण स्थापित करने के लिए किसानों को केवल 10% राशि का भुगतान करना होगा.

साथ ही केंद्र सरकार किसानों को बैंक खाते में सब्सिडी की रकम देगी.

मालूम हो कि सौर ऊर्जा के लिए प्लांट बंजर भूमि पर लगाये जाएंगे.

बता दें कि कुसुम योजना में बैंक किसानों को लोन के रूप में 30% रकम देंगे.

ये भी ज्ञात हो कि सरकार किसानों को सब्सिडी के रूप में सोलर पंप की कुल लागत का 60% रकम देगी.

मालूम हो कि कुसुम योजना के बारे में अधिक जानकारी के लिए आप इस वेबसाइट https://mnre.gov.in/# पर जा सकते हैं.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.