महिलाएं अब बिना किसी चिंता के देशभर में कर सकेंगी सुरक्षित सफर, IIT दिल्ली के छात्रों ने शुरू की इमरजेंसी सर्विस

0 32

महिलाओं की सुरक्षा को लेकर संस्थाएं सजग हो रही हैं और यही कारण है कि अभी हाल ही में आईआईटी दिल्ली और IRSC के छात्रों ने महिलाओं की सुरक्षा के लिए एक पैन इंडिया हेल्पलाइन सर्विस लॉन्च की है। दरअसल यह काफी सस्ती है और विशेष तौर पर महिलाओं को सड़क किनारे सहायता प्रदान करने के लिए लॉन्च की गई है।

Loading...

Loading...

आपको बता दें कि यह सेवा सभी प्रमुख शहरों में प्रदान की जाएगी और वर्ष के सभी 365 दिनों में 24×7 उपलब्ध होगी। मालूम हो कि इन सेवाओं में आपातकालीन टोइंग और ब्रेकडाउन सेवाओं, ईंधन वितरण और फ्लैट टायर सहायता का लाभ शामिल है।

दरअसल यदि आपका वाहन टूट जाता है और उस स्थान पर मरम्मत नहीं की जा सकती है तो आपातकालीन कैब और आवास सहायता प्रदान की जाएगी। इसके अलावा आप आपातकालीन टोइंग सेवाओं का भी लाभ उठा पाएंगे।

यात्रियों को मिलेगी आपातकालीन कैब और आवास की सुविधा

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि iSAFE समय और स्थान के बावजूद उपयोगकर्ताओं की मदद करने के लिए समर्पित है। जी हां, दरअसल सड़क परिवहन और राजमार्ग और अन्य संगठनों के अधिकारियों द्वारा IIT दिल्ली में मई को सेवा शुरू की गई थी। मालूम हो कि उनकी टीम में 28 राज्यों और 1795 शहरों को शामिल करते हुए 6200+ अधिकृत सेवा प्रदाता हैं।

आपको बता दें कि इसे लॉन्च करने के पीछे आईआईटी दिल्ली के छात्रों का मुख्य उद्देश्य यह है कि महिलाएं बिना किसी परेशानी और सुरक्षित तरीके से सड़क यात्रा कर सके। मालूम हो कि IRSC वर्तमान में UN, WHO, सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय, विभिन्न राज्य सरकार, क्षेत्रीय नीतियों, सुप्रीम कोर्ट, AIIMS, IIT, TRIPP और दुनिया भर के अन्य अनुसंधान केंद्रों के लोगों के साथ विजन जीरो के प्रयास में काम कर रही है।

दरअसल यह सब ये भी साबित करता है कि संगठन ने कितनी मान्यता प्राप्त की है। बता दें कि आईआरएससी ने महसूस किया कि कई प्रमुख मुद्दे सेवाओं की अनुपलब्धता के कारण हैं। इसके अनुसार कई लोग सड़क दुर्घटनाओं में अपनी जान गंवा देते हैं क्योंकि उन्हें समय पर आवश्यक चिकित्सा नहीं मिलती है।

यही कारण है कि इसके लिए एक ऐसे मंच की आवश्यकता है जो सड़क के किनारे सहायता प्रदान कर सके। बता दें कि आईआरएससी की ओर से यात्रियों को यह सुविधा 24X 7 मिलेगी।

iSAFE असिस्टेंट निकटतम अस्पताल से जुड़कर एम्बुलेंस सुविधाओं को भी ट्रिगर करेगा

ऐसा पाया गया है कि यात्रियों को सड़क दुर्घटना के बाद दी गई खराब चिकित्सा सहायता के कारण कई लोग अपनी जान गंवा देते हैं। इसके अलावा कभी-कभी लोगों को कोई सहायता भी नहीं मिलती है। ऐसे में, iSAFE असिस्टेंट निकटतम अस्पताल से जुड़कर एम्बुलेंस सुविधाओं को भी ट्रिगर करेगा। खास बात यह है कि इस सेवा के माध्यम से निकटतम अस्पताल तक पहुंचने के लिए आपको कोई पैकेज खरीदने की आवश्यकता नहीं है।

दरअसल यह आपातकालीन मामले को गति प्रदान करने के लिए पूरी तरह से मुफ्त सेवा है। मालूम हो कि यह रोड-साइड सहायता प्राप्त करने के लिए एक वार्षिक पैकेज या ऑन-डिमांड के रूप में भी उपलब्ध है। आपको बता दें कि यह सबसे सस्ती सेवा भी है जो दो पहिया वाहनों के लिए 1 रुपए प्रति दिन से भी कम समय में उपलब्ध है।

दरअसल यह सेवा उन छात्रों पर ध्यान केंद्रित करती है जो आम तौर पर दो पहिया वाहनों के माध्यम से आवागमन करते हैं और इन सेवाओं का लाभ नहीं उठाते हैं।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.