Loading...

आम जनता को बड़ी सौगात, रिलायंस जैसी कंपनियां सस्ते दामों पर बेचेंगी सब्सिडी वाली रसोई गैस

0 26

रसोई गैस की हालत और सुधारने के लिए केंद्र की मोदी सरकार आने वाले समय में प्राइवेट कंपनियों को सब्सिडी वाली रसोई गैस बेचने की अनुमति दे सकती है। जी हां, दरअसल अंग्रेजी अखबार इकोनॉमिक टाइम्स की एक रिपोर्ट के अनुसार, इस पर विचार करने के लिए सरकार ने एक विशेषज्ञ पैनल का गठन किया है। यहां आपको बता दें कि सब्सिडी वाली रसोई गैस बेचने की मांग प्राइवेट कंपनियां लंबे समय से कर रही हैं। जी हां, दरअसल इन कंपनियों का तर्क यह है कि सरकारी कंपनियां ढेर सारी सब्सिडी देकर ग्राहकों को लुभाती हैं।

5 सदस्यों का पैनल जुलाई के अंत तक देगा रिपोर्ट

आपको बता दें कि इस रिपोर्ट के अनुसार, प्राइवेट कंपनियों को सब्सिडी वाली गैस बेचने की अनुमति देने के लिए तेल मंत्रालय ने 5 सदस्यों के पैनल का गठन किया है। मालूम हो कि इस पैनल में अर्थशास्त्री किरीट पारिख, पूर्व पेट्रोलियम सचिव जीसी चतुर्वेदी, इंडियन ऑयल के पूर्व चेयरमैन एमए पठान, आईआईएम अहमदाबाद के डायरेक्टर ईरोल डिसूजा और पेट्रोलियम मंत्रालय के जॉइंट सेक्रेटरी शामिल हैं।

मालूम हो कि यह पैनल जुलाई के अंत तक अपनी रिपोर्ट सौंपेगा। बता दें कि इस पैनल में समान विशेषज्ञ हैं जो पेट्रोल पंपों की स्थापना के संबंध में गठित की गई पॉलिसी रिफॉर्म कमेटी में भी शामिल हैं।

Loading...

यह पैनल वर्तमान प्रणाली का आंकलन करेगा

बता दें कि हाल ही में तेल मंत्रालय की ओर से जारी किए गए एक मेमो के अनुसार, विशेषज्ञों का यह पैनल एलपीजी वितरण की वर्तमान प्रणाली का आकलन करेगा। इसके साथ ही इस संभावना का भी आकलन किया जाएगा कि पूरी तरह से नियंत्रित इस सेक्टर में प्रतियोगिता शुरू की जा सकती है या नहीं। इसके अलावा पैनल यह भी आकलन करेगा कि देश में एलपीजी वितरण में निजी क्षेत्र की भागीदारी बढ़ाने के लिए सरकारी नीतियों को उदार बनाने की जरुरत है या नहीं।

79.2 % घरों तक पहुंची कुकिंग गैस

आंकड़ों को बात की जाए तो साल 2018 की शुरुआत तक देश के 79.2 % घरों तक कुकिंग गैस पहुंच गई है। जी हां, दरअसल अप्रैल 2015 से दिसंबर 2017 के बीच 7 करोड़ नए घरों तक कुकिंग गैस पहुंची है। बता दें कि ज्यादा से ज्यादा घरों तक कुकिंग गैस पहुंचाने में केंद्र सरकारी की उज्ज्वला योजना का मुख्य योगदान रहा है। जी हां, दरअसल इस योजना के तहत अब तक केंद्र सरकार 6 करोड़ से ज्यादा परिवारों को मुफ्त एलपीजी कलैक्शन और सिलेंडर दे चुकी है।

रिलायंस को सबसे पहले मिल सकती है अनुमति

आपको बता दें कि मुकेश अंबानी की रिलायंस इंडस्ट्रीड गुजरात के जामनगर में दुनिया की सबसे बड़ी रिफाइनरी का संचालन करती है। जी हां, दरअसल यह एलपीजी गैस की बड़ी उत्पादक कंपनी है। रिपोर्ट की मानें तो, रिलायंस सब्सिडी वाली रसोई गैस बेचने की अनुमति लेने के लिए सरकार के पास लंबे समय से लॉबिंग कर रही है।

जी हां, अब ऐसे में यह संभावना जताई जा रही है कि यदि सरकार प्राइवेट कंपनियों को सब्सिडी वाली रसोई गैस बेचने का फैसला करती है तो रिलायंस को सबसे पहले अनुमति मिल सकती है।

ये हैं एलपीजी उत्पादन करने वाली टॉप कंपनियां

इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन लिमिटेड

ऑयल एंड नेचुरल गैस कॉरपोरेशन लिमिटेड

भारत पेट्रोलियम

रिलायंस पेट्रोलियम लिमिटेड

एस्सार ऑयल लिमिटेड

केर्यन इंडिया

गैस अथॉरिटी ऑफ इंडिया

हिन्दुस्तान पेट्रोलिम कॉरपोरेशन

ऑयल इंडिया लिमिटेड

टाटा पेट्रोडाइन

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.