Loading...

जानिए चीन और पाक के मुकाबले भारत की सेनाओं को कितना मिलता है पैसा

0 29

जब भी एशिया में सुपरपावर या फिर वर्चस्व की बात होती है तो फिर भारत, चीन और पाकिस्तान में ठन जाती है. दरअसल भारत का चीन और पाकिस्तान के साथ सीमा विवाद काफी पुराना है, और इसी विवाद के चलते दोनों ओर से रक्षा बजट पर खास ध्यान दिया जाता रहा है.

भारत और चीन की बात करें तो ये दोनों देश तो आर्थिक रूप से संपन्न है, लेकिन आज की तारीख में पाकिस्तान की आर्थिक स्थिति बेहद खराब है हालांकि इसके बावजूद वह साल-दर-साल रक्षा बजट को बढ़ाता रहा है. लेकिन अब जाके पहली बार पाकिस्तान ने रक्षा बजट में कटौती का ऐलान किया है.

दरअसल ऐसा माना जा रहा है कि पाकिस्तान को अब जाकर अपनी गलती का अहसास हुआ है. बता दें कि पाकिस्तान की सेना ने अपने रक्षा बजट में कटौती का फैसला किया है, जिसकी इमरान खान तारीफ कर रहे हैं. लेकिन आज जो पाकिस्तान की स्थिति है, उसके बारे में सबको पता है.

साल 2018 की बात की जाए तो इसमें पाकिस्तान से 6 गुना अधिक भारत का रक्षा बजट रहा. वहीं चीन का रक्षा बजट भारत के बजट की तुलना में करीब 3 गुना रहा. यानी तीनों देश रक्षा बजट को सबसे ज्यादा अहमियत देते रहै हैं.

Loading...

कैसा है भारत का रक्षा बजट

भारत के रक्षा बजट की बात की जाए तो साल 2017 में ये 2.74 लाख करोड़ रुपये का था. वहीं उसके बाद साल 2018 में इसे बढ़ाकर 2.98 लाख करोड़ रुपये किया गया. 2018 में भारत का सैन्य खर्च करीब 66.5 अरब डॉलर रहा था. जबकि फरवरी 2019 में भारत सरकार की ओर से रक्षा बजट में 6.87 % की बढ़त करते हुए 3.18 लाख करोड़ रुपये तय किया गया है.

बता दें कि रक्षा बजट को अगर जीडीपी के अनुपात में देखें तो अब तक का सबसे कम महज 1.4 % है. जबकि प्रतिरक्षा मामलों पर संसदीय समिति का कहना है कि इसे कम से कम 3 % होना चाहिए.

देखा जाए तो देश के सामने खतरे भी बड़े हैं, दो परमाणु ताकत वाले पड़ोसी हमारे दुश्मन हैं. लेकिन हमारे सैनिकों के पास जो साजोसामान उसे हाईटेक करने की जरूरत भी है. दरअसल भारतीय सेना को अगले कुछ वर्षों में 2,200 155 एएम तोपों की जरूरत है.

दरअसल फिलहाल भारत के पास ज्यादातर हेलिकॉप्टर पुराने हैं और अगले 10 वर्षों में 1,000 से 1200 हेलिकॉप्टरों की जरूरत पड़ेगी. ऐसे में यह माना जा रहा है कि इस बार रक्षा बजट पर सरकार का खास फोकस हो सकता है.

कैसा है चीन का रक्षा बजट

चीन की बात की जाए तो चीन ने साल 2019 के लिए अपने रक्षा बजट में 7.5 % की बढ़त की है. जी हां, दरअसल साल 2019 के लिए चीन ने 1.19 लाख करोड़ युआन यानी कि करीब 177.61 अरब डॉलर का प्रतिरक्षा बजट पेश किया. आपको बता दें कि अमेरिका के बाद रक्षा बजट पर सबसे ज़्यादा खर्च करने वाला दूसरा देश चीन है.

मालूम हो कि चीन का साल 2018 का रक्षा बजट करीब 175 अरब डॉलर का था जो कि भारत के रक्षा बजट का करीब 3 गुना था. बता दें कि चीन ने साल 2018 में अपने GDP का 1.3 % रक्षा पर खर्च किया था.

दरअसल चीन सरकार के मुताबिक साल 2018 के प्रतिरक्षा बजट में 8.1 % की बढ़त की गई थी. बता दें कि चीन ने साल 2016 में उसके प्रतिरक्षा बजट में 7.6 % की बढ़त हुई थी, इसके बाद साल 2017 में 7 % और साल 2018 में 8.1 % की बढ़त की गई थी.

कैसा है पाकिस्तान का रक्षा बजट

आपको बता दें कि पाकिस्तान का रक्षा बजट वहां के जीडीपी का करीब 4 % है. मालूम हो कि पाकिस्तान साल 2018 में रक्षा बजट पर 80 हजार करोड़ रुपये खर्च करने वाला दुनिया का 20वां देश था. वहीं स्कॉटहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टिट्यूट की रिपोर्ट के मुताबिक साल 2018 में पाकिस्तान का कुल सैन्य खर्च 11.4 अरब डॉलर था.

दरअसल साल 2018 में पाकिस्तान का रक्षा बजट 11 % के इजाफे के साथ 11.4 अरब डॉलर हो गया. हालांकि अब पाकिस्तान पर कर्ज और उसकी GDP का अनुपात 70 % तक पहुंच गया है।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.