Loading...

1 जुलाई से सभी कारों में अनिवार्य होगा 5 सेफ्टी फीचर्स लागू करना, सड़क परिवहन मंत्रालय ने जारी किए निर्देश

0 16

आने वाली 1 जुलाई 2019 की तारीख बेहद महत्वपूर्ण साबित होने वाली है। जी हां, दरअसल सड़क परिवहन राजमार्ग मंत्रालय के द्वारा जारी निर्देशों के अनुसार देश में आगामी 1 जुलाई 2019 से सभी कार निर्माता कंपनियों को कार में 5 सेफ्टी फीचर्स लगाना अनिवार्य होगा।

बता दें कि सरकार की तरफ से इस सेफ्टी नार्म्स का नाम AIS-145 सेफ्टी नॉर्म्स दिया गया हैं। दरअसल इसके तहत कार में 5 तरह के सेफ्टी फीचर्स में लगाना जरूरी होगा। कार निर्माता कंपनियों के मुताबिक इस नए नियम के लागू होने से कार की कीमतों में करीब 20 से 30 हजार रुपए तक की बढ़ोतरी हो जाएगी। चलिए जानते हैं क्या हैं वो फीचर्स..

ABS के साथ EBD

एबीएस एक कमाल का फीचर है, इसका मतलब होता है एंटीलॉक ब्रेकिंग सिस्टम। दरअसल यह कार के ब्रेक्स को पहिए के साथ लॉक होने से रोकता है, खासतौर पर जब गाड़ी खराब या फिसलन भरे रास्तों पर चल रही हो तो यह सिस्टम काफी कारगर रहता है।

Loading...

वहीं दूसरी तरफ ईबीडी यानी इलेक्ट्रॉनिक ब्रेक-फोर्स डिस्ट्रिब्यूशन सिस्टम एक ऐसा इंटेलिजेंट सिस्टम है जो एबीएस की मदद करता है।

दरअसल एबीएस जहां ब्रेक को लॉक होने से बचाता है। वहीं ईबीडी कार में लगाए गए ब्रेक्स की पावर को सड़क की कंडिशन के मुताबिक चारों पहियों में डिस्ट्रिब्यूट करता है।

इसका मतलब यह है कि अगर आप फिसलन भरी सड़क पर गाड़ी में ब्रेक लगाते हैं तो ईबीडी कार के सभी पहियों के बीच इस तरह से ब्रेक-फोर्स को विभाजित करेगा कि आपकी कार स्किड नहीं करेगी और ड्राइवर का स्टियरिंग पर कंट्रोल बना रहेगा।

ड्राइवर के साथ एयरबैग

मालूम हो कि अब ड्राइविंग सीट के लिए सरकार ने एयरबैग को अनिवार्य कर दिया गया है। दरअसल अब बिना ड्राइवर एयरबैग के कार का रजिस्ट्रेशन नहीं होगा। जाहिर है कि इसे अनिवार्य बनाने की वजह एक्सीडेंट के दौरान ड्राइवर का बचाव करना है। बता दें कि आगामी 1 जुलाई 2019 से कम से कम ड्राइवर एयरबैग लगाना अनिवार्य होगा।

रिवर्स पार्किंग अलर्ट सिस्टम

ये तो हम सब जानते हैं कि कार को रिवर्स करते वक्त एक्सीडेंट से बचाव के लिए रिवर्स पार्किंग अलर्ट सिस्टम काफी कारगर साबित होता है। यही कारण है कि सरकार ने कारों में जुलाई 2019 से इसे लगाना अनिवार्य कर दिया है, जबकि बस और ट्रक में इसे अप्रैल 2020 से अनिवार्य बनाया जाएगा। यहां आपको बता दें कि रिवर्स पार्किंग में एक सेंसर और कैमरे की मदद से ड्राइवर को डिटेल दी जाती है, कि कार के पिछले हिस्से में कितना स्पेस है।

स्पीड अलर्ट सिस्टम

मालूम हो कि सरकार ने आगामी जुलाई 2019 से कार में ऑडिबल स्पीड अलर्ट सिस्टम लागू करने का निर्देश दिया है। जी हां, दरअसल इसके अनुसार जब कार 80 किमी प्रति घंटे की स्पीड को पार करेगी, तो कार में लगा डिवाइस स्पीड को कंट्रोल में करने की हिदायत देगा। दरअसल इस तरीके से कार में बैठे सभी लोग कार के स्पीड के बारे में जान सकेंगे। बता दें कि 120 किमी रफ्तार होने तक अलर्ट सिस्टम आवाज करता रहेगा।

सीट बेल्ट रिमाइंडर

आपको बता दें कि सीट बेल्ट रिमांडर भी आने वाली 1 जुलाई 2019 से अनिवार्य हो जाएगा। दरअसल ऐसे में बिना सीट बेल्ट लगाए कार चलाने पर बीप की आवाज आएगी और एक तरीके से वो आपको याद दिलाएगी की आपने सीट बेल्ट नहीं लगाई है।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.