Loading...

अगर धोनी ने फिर से पहने बलिदान ग्लव्स, तो आखिर उन्हें ICC क्या सजा देगी

0 21

विश्व कप 2019 के दौरान भारत के विकेटकीपर-बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी बलिदान ग्लव्स पहनने की वजह से मुश्किलों में आ गए हैं। आईसीसी ने धोनी को विश्व कप के दौरान बलिदान ग्लव्स पहनने की इजाजत नहीं दी है। आईसीसी द्वारा जारी बयान के मुताबिक, धोनी ने 2 नियम तोड़े हैं, जिसके मुताबिक किसी भी खिलाड़ी को अपने किसी सामान या कपड़े पर किसी निजी संदेश या लोगो को लगाने की अनुमति नहीं होती और धोनी द्वारा की गई गलती विकेटकीपर के ग्लव्स के नियमों का भी उल्लंघन है।

लेकिन अगर धोनी आईसीसी का नियम नहीं मानते हैं तो उन्हें क्या सजा मिलेगी। आईसीसी के नियमों के मुताबिक, अगर कोई खिलाड़ी पहली बार इस तरह की गलती करता है तो उसे फटकार लगाई जाती है। लेकिन बता दें कि धोनी को अभी तक फटकार नहीं लगाई गई। उन्हें केवल ग्लव्स ना पहनने के लिए कहा गया था। धोनी को अपने ग्लव्स बदलने होंगे या फिर टेप लगाकर खेलना होगा।

अगर धोनी ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध होने वाले मैच में बलिदान ग्लव्स पहनकर खेलते हैं तो आईसीसी की ओर से उन्हें फटकार लगाई जा सकती है या उन पर जुर्माना भी लग सकता है। लेकिन इसके बाद भी धोनी गलती करते हैं तो उनकी मैच फीस मे से 25% की कटौती हो सकती है और तीसरी बार गलती करने पर 50% का जुर्माना, जबकि चौथी बार में यह जुर्माना 75% हो सकता है।

Loading...

क्या है बलिदान बैज का मतलब

धोनी टेरिटोरियल आर्मी में है। उन्हें भारतीय सेना की पैरा स्‍पेशल फोर्स में लेफ्टिनेंट कर्नल की उपाधि से नवाजा गया था। यह बलिदान निशान पैरा पैरा स्‍पेशल फोर्स का सबसे बड़ा सम्मान होता है। इसे धारण करने का अधिकार केवल पैरा कमांडो को ही होता है। इस निशान को धारण करने की योग्यता हासिल करने के लिए कमांडो को पैरामेंट रेजीमेंट के हवाई जंप के नियमों पर खरा उतरना होता है। धोनी ने 2015 में 5 बार जंप लगाकर इस बैज को पहनने की योग्यता पाई थी।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.