Loading...

आप हर महीने पा सकते हैं 60 हजार रुपए की पेंशन, मोदी सरकार की इस स्कीम का उठाएं फायदा

0 24

अगर आप उनमें से हैं जो प्राइवेट नौकरी करते हैं या अपना बिजनेस करते हैं और आप सोचते हैं कि काश हमारी भी पेंशन होती तो बता दें कि ऐसा मुमकिन है और आप भी सरकारी कर्मचारियों की तरह पेंशन पा सकते हैं.

जी हां, दरअसल इसके लिए आपको न्यू पेंशन सिस्‍टम यानी NPS अकाउंट खुलवाना होगा. बता दें कि इसमें आपको ही महीने बहुत ज्यादा निवेश की भी जरूरत नहीं है. इसमें आप हर महीने मात्र 5000 रुपये निवेश कर रिटायरमेंट के बाद मंथली 60,000 रुपये की पेंशन पा सकते हैं. साथ में आपको 23 लाख रुपये की एकमुश्त रकम भी मिलेगी. चलिए जानते हैं इस स्कीम के बारे में..

NPS का लाभ कौन ले सकता है

आपको बता दें कि नेशनल पेंशन सिस्टम से 18 से 60 साल की उम्र के बीच का कोई भी वेतनभोगी जुड़ सकता है. दरअसल पहले यह सिर्फ सरकारी कर्मचारियों के लिए था, लेकिन वर्ष 2009 से प्राइवेट सेक्टर में नौकरी करने वालों के लिए स्कीम खोल दी गई.

Loading...

निवेश का जिम्मा होता है किसके हाथ

जानकारी के लिए बता दें कि नेशनल पेंशन सिस्टम यानी कि NPS में जमा किए गए पैसे को निवेश करने का जिम्मा पेंशन फंड रेगुलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी यानी कि PFRDA द्वारा रजिस्टर्ड पेंशन फंड मैनेजर्स को दिया जाता है. जी हां, दरअसल ये फंड मैनेजर आपके पैसे को इक्विटी, गवर्नमेंट सिक्युरिटीज और नॉन गवर्नमेंट सिक्युरिटीज के अलावा फिक्स्ड इनकम इंस्ट्रूमेंट में निवेश करते हैं. बता दें कि सब्सक्राइबर्स इनमें से चुनाव कर सकते हैं या बदलाव कर सकते हैं.

इस तरह मिलेगी 60 हजार की मंथली पेंशन

मान लीजिए कि यदि इस योजना में आप 25 की उम्र से जुड़ते हैं तो 60 की उम्र तक यानी 35 साल तक आपको हर महीने 5000 रुपये स्कीम के तहत जमा करना होगा. इस तरह आपके द्वारा किया गया कुल निवेश 21 लाख रुपए का होगा.

वहीं NPS में कुल निवेश पर अगर अनुमानित रिटर्न 8 % मान लें तो तो कुल कॉर्पस 1.15 करोड़ रुपये होगा. अब इसमें से 80 % रकम से एन्युटी खरीदते हैं तो वह वैल्यू करीब 93 लाख रुपए होगी. वहीं लम्प सम वैल्यू भी 23 लाख रुपये के करीब होगी.

इसी प्रकार अगर एन्युटी रेट 8 % हो तो 60 की उम्र के बाद हर महीने 61 हजार रुपये के करीब आपकी पेंशन बनेगी. इसके साथ ही अलग से 23 लाख रुपये का फंड भी आपको मिलेगा.

किस प्रकार खोलें अकाउंट

बता दें कि इस स्कीम के तहत आप किसी भी नजदीकी बैंक ब्रांच में जाकर अकाउंट खुलवा सकते हैं. दरअसल, इसके लिए आपको बर्थ सर्टिफिकेट, 10वीं की डिग्री, एड्रेस प्रूफ और आई कार्ड की जरूरत होती है. रही बात रजिस्ट्रेशन फॉर्म की तो वो बैंक से मिल जाता है.

2 तरह के होते हैं अकाउंट

आपको बता दें कि इस स्कीम के तहत 2 तरह के अकाउंट होते हैं; टियर-I और टियर-II. बता दें कि टियर-I अकाउंट खुलवाना जरूरी है, जबकि टियर-II अकाउंट कोई भी टियर-I अकाउंट खुलवाने वाला शुरू कर सकता है. मालूम हो कि टियर-I अकाउंट से 60 साल की उम्र के पहले पूरा फंड नहीं निकाला जा सकता है. जबकि टियर-II अकाउंट में अपनी मर्जी से निवेश कर सकते हैं या फंड निकाल सकते हैं.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.