Loading...

ATM से पैसे निकालने पर लगने वाला चार्ज हो सकता हैं खत्म, RBI ने दिया इशारा

0 24

ATM में लगने वाले चार्ज से अगर आप परेशान हैं तो बता दें कि ऐसा हो सकता है कि जल्द ही आपको इस परेशानी से मुक्ति मिल जाए क्योंकि स्वयं RBI की ओर से एटीएम ट्रांजेक्‍शन चार्ज को लेकर भी बड़े फैसले लेने के संकेत दिए गए हैं.

मालूम हो कि केंद्रीय बैंक ने बैठक में एक समिति का गठन करने का निर्णय लिया है. इस समिति के जरिए ATM शुल्क से जुड़े मामलों की समीक्षा की जाएगी. बता दें कि इस कमिटी का नेतृत्व IBA के CEO करेंगे. यह समिति अपनी पहली बैठक के दो महीने के भीतर अपनी सिफारिशें आरबीआई को बताएगी.

दरअसल आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा एटीएम का इस्तेमाल लगातार बढ़ रहा है. साथ ही एटीएम से जुड़ी फीस और चार्ज को लेकर लंबे समय से चर्चा हो रही है. कई बार इसे खत्म करने तक की मांग की गई. शक्तिकांता दास ने कहा इस मुद्दे को सुलझाने के लिए रिजर्व बैंक एक कमेटी का गठन करेगा.

बता दें कि रिजर्व बैंक की इस कमेटी के चेयरमैन इंडियन बैंक एसोसिएशन के सीईओ होंगे. दरअसल इस कमेटी का काम होगा कि अभी एटीएम पर लग रहे सभी चार्ज और फीस की समीक्षा करे और आरबीआई को अपनी रिपोर्ट सौंपे.

Loading...

आपको बता दें कि रिजर्व बैंक ने कहा है कि ये कमिटी अपनी पहली मीटिंग के बाद 2 महीने में सेंट्रल बैंक को अपने सुझाव जमा कराएगी. वहीं आरबीआई एक हफ्ते में इस कमिटी की शर्तें जारी करेगा.

रेपो रेट को 6.0% से घटाकर 5.75% कर दिया गया

मालूम हो कि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने अपनी क्रेडिट पॉलिसी का भी एलान किया जिसमें रेपो रेट और रिवर्स रेपो रेट में कटौती की गई है. बता दें कि आरबीआई ने रेपो रेट को 6.0% से घटाकर 5.75% कर दिया है. यानि उसने रेपो रेट में 0.25% की कटौती है. इसके अलावा रिवर्स रेपो रेट भी 5.75% से घटाकर 5.50% किया गया है. मालूम हो कि केंद्रीय बैंक द्वारा यह लगातार तीसरा मौका है जबकि उसने ब्याज दर घटाई हैं.

RTGS और NEFT पर बैंको की ओर से वसूले जाने वाले चार्जे खत्म किए

आपको बता दें कि रिजर्व बैंक की मॉनेटरी पॉलिसी कमेटी यानी कि एमपीसी ने RTGS और NEFT पर बैंको की ओर से वसूले जाने वाले चार्जे को पूरी तरह से खत्म करने का फैसला किया है. साथ ही RBI ने बैंकों को कहा की फायदा ग्राहकों को देना सुनिश्चित करे.

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.