Loading...

बाबा रामदेव की पतंजलि को पड़ी कर्ज की जरूरत, सरकारी बैंकों से लगाई मदद की गुहार

0 19

बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि अब बैंकों से कर्ज लेने की तैयारी में है। जी हां, दरअसल रुची सोया कंपनी को खरीदने के लिए बाबा रामदेव की पतंजलि कंपनी ने सरकारी बैंकों से कर्ज देने की गुहार लगाई है। बता दें कि पतंजलि और रुची सोया के बीच यह सौदा 4,350 करोड़ रुपये में हो रहा है।

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो कंपनी 5 साल के लिए कर्ज लेना चाहती है और उसने एसबीआई, पीएनबी, बैंक ऑफ बड़ौदा, यूनियन बैंक और जेऐंडके बैंक से संपर्क साधा है।

जानकारी के लिए बता दें कि यह कंपनी 3,700 करोड़ रुपये से अधिक का कर्ज बैंकों से लेना चाहती है जबकि 600 करोड़ रुपये का इंतजाम वह अपने स्तर पर करेगी।

ब्याज दर पर अटकी है बातचीत

Loading...

कुछ सूत्रों मानें तो बैंकों से फंड के लिए बातचीत आखिरी दौर में है और जल्द ही ब्याज दर भी फाइनल हो जाएगी। दरअसल पतंजलि ने पहले कर्ज के लिए नॉन-बैंकिंग चैनल से संपर्क किया था, लेकिन निवेशकों के अधिक डिस्क्लोजर की मांग करने पर वह पीछे हट गई थी।

रुचि सोया हो चुकी है दिवालिया

जानकारी के लिए बता दें कि पतंजलि ने इनसॉल्वेंसी ऑक्शन में रुचि सोया को खरीदा है, जिस पर 9,300 करोड़ से अधिक का कर्ज है। इसमें से 1,800 करोड़ रुपये का सबसे अधिक एसबीआई का है। इसके बाद सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया का एक्सपोजर 816 करोड़ और पीएनबी का 743 करोड़ रुपये है।

वैसे पिछले साल अगस्त में रुचि सोया के लिए सबसे ऊंची बोली अडानी विल्मर ने लगाई थी। तब पतंजलि के साथ उसका कड़ा मुकाबला हुआ था। हालांकि, दिसंबर 2018 में अडानी विल्मर इनसॉल्वेंसी प्रोसेस में देरी के चलते इस डील से पीछे हट गई थी।

200 करोड़ रुपए ज्यादा में खरीद रही है पतंजलि

दरअसल अडानी विल्मर के बाहर निकलने के बाद रुचि सोया को खरीदने की रेस में सिर्फ पतंजलि बच गई थी। आपको बता दें कि पतंजलि को अपनी ग्रोथ तेज बनाए रखने में ये डील काफी मददगार साबित हो सकती है। बता दें कि अप्रैल में बोली 200 करोड़ रुपये बढ़ाकर 4,350 करोड़ रुपये कर दी थी।

दरअसल रुचि सोया को खरीदने के बाद पतंजलि सोयाबीन ऑइल और दूसरे प्रॉडक्ट्स की बड़ी सप्लायर बन जाएगी। ऐसा माना जा रहा है कि इस डील से पतंजलि को अपनी ग्रोथ तेज बनाए रखने में मदद मिलेगी।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.